प्रशांत किशोर नीतीश कुमार से मिले, अपने रुख पर कायम

पत्रकारों ने जब प्रशांत किशोर से पार्टी नेता आऱ सी़ पी़ सिंह के बयानों के संबंध में पूछा तो उन्होंने कहा कि वे किसी पर भी व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करना चाहते। जिसे जो कहना है, कहे। उन्होंने सिंह को पार्टी का बड़ा नेता भी बताया।

Avatar Written by: December 14, 2019 9:40 pm

पटना। नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) को जनता दल (युनाइटेड) का समर्थन दिए जाने के बाद अपनी पार्टी से नाराज चल रहे जद (यू) उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने शनिवार शाम बिहार के मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार से मुलाकात की। मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि अपने रुख पर वह अब भी कायम हैं। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि कोई कुछ भी बोले, उसकी परवाह मत कीजिए। उन्होंने हालांकि यह भी दोहराया कि नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन दिए जाने के खिलाफ अपने रुख पर वह अब भी कायम हैं।PRASHANT KISHORE कानून बन चुके नागरिकता संशोधन विधेयक पर अपनी पार्टी से अलग राय रखने वाले प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री आवास से निकलने के बाद पत्रकारों से कहा, “मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी के दूसरे नेताओं की टिप्पणी की चिंता नहीं करें। उस पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है। मेरी तरफ से कोई ‘ऑब्जेक्शन’ नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह एनआरसी के खिलाफ हैं। नागरिकता कानून को अगर एनआरसी से जोड़ा जाएगा तो गड़बड़ होगा।”Prashant Kishor and Nitish Kumar

पत्रकारों ने जब प्रशांत किशोर से पार्टी नेता आऱ सी़ पी़ सिंह के बयानों के संबंध में पूछा तो उन्होंने कहा कि वे किसी पर भी व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करना चाहते। जिसे जो कहना है, कहे। उन्होंने सिंह को पार्टी का बड़ा नेता भी बताया।prashant kishor and nitish kumar

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को राज्यसभा में जद (यू) संसदीय दल के नेता और पार्टी के महासचिव आऱ सी़ पी सिंह ने प्रशांत किशोर को ‘अनुकंपा वाला नेता’ बताते हुए कहा था कि किशोर की अपनी कोई जमीन नहीं है। उन्होंने पार्टी के लिए आज तक क्या किया? आज तक एक भी सदस्य नहीं बनाया।

उन्होंने यहां तक कह दिया था कि पार्टी ने अपने विचार सदन में स्पष्ट कर दिए हैं, जो इसे नहीं स्वीकार करना चाहते और उन्हें पार्टी से जाना है, तो जाएं।prashant kishor and nitish kumar

प्रशांत किशोर नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन दिए जाने को लेकर पार्टी पर लगातार निशाना साध रहे हैं। ऐसे में संभावना व्यक्त की जा रही थी कि किशोर के खिलाफ पार्टी कोई बड़ी कार्रवाई कर सकती है।


इस बीच, शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर यह जानकारी सार्वजनिक की है कि प्रशांत किशोर दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के लिए चुनावी रणनीतिकार बनाए गए हैं।