राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को मिलाद-उन-नबी की बधाई दी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को पैगंबर मुहम्मद के जन्मदिन मिलाद-उन-नबी के अवसर पर लोगों को बधाई दी। राष्ट्रपति ने शुभकामनाएं देते हुए ट्विटर पर लिखा, “पैगंबर मुहम्मद (स.) के जन्मदिन, मिलाद-उन-नब़ी के मुबारक मौके पर, मैं सभी देशवासियों, विशेष रूप से अपने मुस्लिम भाई-बहनों को शुभकामनाएं देता हूं।

Written by: November 10, 2019 11:57 am

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को पैगंबर मुहम्मद के जन्मदिन मिलाद-उन-नबी के अवसर पर लोगों को बधाई दी।

president of india

राष्ट्रपति ने शुभकामनाएं देते हुए ट्विटर पर लिखा, “पैगंबर मुहम्मद (स.) के जन्मदिन, मिलाद-उन-नब़ी के मुबारक मौके पर, मैं सभी देशवासियों, विशेष रूप से अपने मुस्लिम भाई-बहनों को शुभकामनाएं देता हूं। आइए, हम सब उनके जीवन से प्रेरणा लेकर आपसी भाईचारे और रहमदिली के साथ सभी की खुशहाली के लिए कार्य करें।”

pm modi tweetप्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ” मिलाद-उन-नबी की बधाई। पैगंबर मुहम्मद के विचारों से प्रेरित होकर, यह दिन समाज में सद्भाव और करुणा की भावना का प्रसार करे। चारों ओर शांति हो।”


बता दें कि मोहम्मद साहब इस्लाम धर्म के अंतिम पैगंबर थे। वहीं इस बार मिलाद-उन-नबी 9 नवंबर की शाम से शुरू हुआ जो आज (10 नवंबर) की शाम तक चलेगा। इस दिन को इस्लाम धर्म में सबसे पाक बताया गया है। इस दिन को मुस्लिम समुदाय के लोग बड़ी धूम से मनाते हैं।

milad un nabi

बता दें कि सोशल मीडिया पर लोग मिलाद-उन-नबी की बधाइयां दे रहे हैं। मोहम्मद साहब की बात करें तो उनका पूरा नाम मोहम्मद इब्र अब्दुल्लाह इब्र अब्दुल मुत्तलिब था। उनके पिता का नाम अब्दुल्लाह और वालदा का नाम बीबी अमीना था। इस्लाम धर्म में ऐसी मान्यता है कि 610ई. में मक्का के नजदीक हीरा नाम की गुफा में उन्हें ज्ञान प्राप्त हुआ था। इसलिए इस दिन को और भी खास तरीके से मनाया जाता है।

क्या है इसका महत्व

eid

इस्लाम धर्म की जानकारों की मानें तो इस दिन मोहम्मद साहब के सांकेतिक पैरों के चिह्न पर इबादत की जाती है। इस्लाम धर्म के अनुयायी इस पर्व पर रातभर जागते हैं और दुआएं मांगते हैं। इसके साथ पैंगंबर मोहम्मद साहब के उपदेश को पढ़ा जाता है। इस्लमाम धर्म के अनुयायी दरगाह और मक्का-मदीना जाकर इबादत भी करते हैं।