धरी रह जाएगी शिवसेना, कांग्रेस-एनसीपी की तैयारी, महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश!

जनकारी के मुताबिक, राज्यपाल शाम तक इंतजार करेंगे और फिर राष्ट्रपति शासन लगाने के बारे में अंतिम फैसला लिया जाएगा। बता दें, राज्यपाल भाजपा, शिवसेना और एनसीपी तीनों पार्टियों से बात की है और अभी तक कुछ भी साफ नहीं हो पाया है। 

Written by: November 12, 2019 1:43 pm

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में किसकी सरकार बनेगी अभी तक इस पर कुछ साफ नहीं हो पाया है और जहां राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पहले भाजपा को सरकार बनाने को न्योता दिया था। तो इसके बाद शिवसेना को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया था।

bhagat singh koshyari

हालांकि, अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाने के बाद सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि, राज्यपाल ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की है।


इसके साथ ही जानकारी ये भी मिली है कि, शिवसेना राष्ट्रपति शासन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकती है और इसलिए पार्टी ने वकील और कांग्रेस नेता कपील सिब्बल से बात भी की है। शिवसेना का कहना है कि, हमें सरकार बनाने के लिए कम से कम तीन दिन का सामय मिलना चाहिए। अगर नहीं मिलता है तो फिर शिवसेना सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी।

shivsena

जनकारी के मुताबिक, राज्यपाल शाम तक इंतजार करेंगे और फिर राष्ट्रपति शासन लगाने के बारे में अंतिम फैसला लिया जाएगा। बता दें, राज्यपाल भाजपा, शिवसेना और एनसीपी तीनों पार्टियों से बात की है और अभी तक कुछ भी साफ नहीं हो पाया है।

Sonia Gandhi Sharad Pawar Uddhav

इससे पहले कांग्रेस ने कहा था कि, सरकार बनाने में देरी उनकी तरफ से नहीं, बल्कि एनसीपी चीफ शरद पवार की ओर से हो रही है। इसके पीछे कांग्रेस की थ्योरी है कि शरद पवार चाहते हैं कि दोनों पार्टियों शिवसेना और एनसीपी को ढाई-ढाई साल सीएम पद मिले। यानी सीएम का पद रोटेशनल हो। वहीं, शिवसेना अभी भी आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाना चाहती है।

maharashtra parties

दिलचस्प बात ये है कि शिवसेना ने जिस 50-50 फॉर्मूले के चलते बीजेपी से अपना 30 साल पुराना नाता तोड़ा है, उसी के फेर में अब वह फंसती नजर आ रही है।

shivsena

दरअसल, शिवसेना ने 56 सीटों पर जीत दर्ज की है और एनसीपी ने 54 सीटें जीती हैं। इस लिहाज से देखा जाए तो एनसीपी के पास महज दो सीटें कम हैं। हालांकि, एनसीपी की तरफ से लगातार महाराष्ट्र में वैकल्पिक सरकार देने की बात की जा रही है।