पित्रोदा की टिप्पणी को लेकर प्रियंका गांधी के सामने विरोध प्रदर्शन

प्रदर्शनकारियों ने प्रियंका के दौरे का विरोध करने के लिए कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की ‘हुआ तो हुआ’ टिप्पणी पर सवाल खड़े किए, जिसे पित्रोदा ने 1984 की हिंसा के संदर्भ में कहा था। प्रियंका गांधी के साथ जाखड़, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, पार्टी की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी और कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू मौजूद थे।

Written by: May 15, 2019 11:02 am

पठानकोट। 1984 के सिख दंगे के सैकड़ों पीड़ितों ने मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के दौरे के खिलाफ यहां प्रदर्शन किया। प्रियंका यहां पार्टी उम्मीदवार सुनील जाखड़ के पक्ष में प्रचार करने आई थीं।

Congress

प्रदर्शनकारियों ने प्रियंका के दौरे का विरोध करने के लिए कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की ‘हुआ तो हुआ’ टिप्पणी पर सवाल खड़े किए, जिसे पित्रोदा ने 1984 की हिंसा के संदर्भ में कहा था। प्रियंका गांधी के साथ जाखड़, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, पार्टी की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी और कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू मौजूद थे।

Protest

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक दिन पहले खन्ना कस्बे में एक रैली में कहा था कि उन्होंने पित्रोदा से कहा है कि वह अपनी टिप्पणी के लिए देश से माफी मांगें। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि जो लोग दंगे के दोषी हैं, उन्हें दंडित किया जाना चाहिए।

Protest

पित्रोदा के बयान को लेकर भारतीय जनता पार्टी के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी काफी हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इससे पहले 1984 के सिख विरोधी दंगों के मुद्दे पर कांग्रेस पर अपना हमला तेज करते हुए कहा था कि राहुल गांधी को इस मामले में सैम पित्रोदा के बयान के लिए उनसे नाराजगी जताने का दिखावा करने के बजाय खुद इस पर शर्म आनी चाहिए।