आरएसएस को देश नहीं चलाने देंगे : राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि आरएसएस को देश चलाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और देश के लोग, खासतौर से पूर्वोत्तर के लोग अपनी जमीन और राष्ट्र पर शासन करेंगे। 

Written by: March 21, 2019 9:04 am

नई दिल्ली| कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि आरएसएस को देश चलाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और देश के लोग, खासतौर से पूर्वोत्तर के लोग अपनी जमीन और राष्ट्र पर शासन करेंगे।


राहुल ने कहा, “(प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी की सरकार चाहती है कि नागपुर से आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंवेवक संघ) देश और पूर्वोत्तर को चलाए। कांग्रेस किसी भी रूप में इसकी इजाजत नहीं देगी।”

गांधी ने त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्तशासी जिला परिषद के मुख्यालय खुमुलवांग में एक चुनावी रैली में कहा, “देश और पूर्वोत्तर क्षेत्र के लोग अपनी भूमि और राष्ट्र पर शासन करेंगे।”


उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव समग्रता और प्यार की विचारधारा तथा भारतीय जनता पार्टी की नफरत की विचारधारा के बीच लड़ा जाएगा। उन्होंने देश की संस्कृति, इतिहास और भाषा को नष्ट करने का भाजपा पर आरोप लगाया।

गांधी ने लगभग 25 मिनट के अपने हिंदी में दिए भाषण में दावा किया कि जब किसानों ने अपने ऋण माफ करने की मांग की तो मोदी और वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ऐसा नियम नहीं है, जबकि उन्होंने नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अन्य के लाखों करोड़ रुपये के ऋण माफ कर दिए।

उन्होंने संप्रग सरकार द्वारा माफ किए गए किसानों के 70,000 करोड़ रुपये के ऋण और छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस सरकारों द्वारा 10 दिनों के बदले दो दिनों में माफ किए गए ऋण का जिक्र किया। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई लूटने में भारत के सभी चोरों की मदद कर रही है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने युवाओं की नौकरियां खत्म कर दी और जब सीबीआई राफेल विमान सौदे की जांच करना चाही तो उसके निदेशक को हटा दिया गया।

राहुल ने कहा, “नरेंद्र मोदी ने जनता को वंचित कर दिया, खासतौर से किसानों और गरीबों को, और कई बड़े उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाया। हम कांग्रेस की सरकार आने पर जनता को लाभ देंगे।”

उन्होंने नोटबंदी पर भी हमला किया। “कोई आठ साल का बच्चा भी मोदी की नोटबंदी के भयानक असर को समझता है, लेकिन उन्हें समझ में नहीं आया कि उन्होंने अपने इस निर्णय से कितना नुकसान किया।”

राहुल ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वह दोबारा नागरिकता विधेयक लाएंगे, लेकिन कांग्रेस इसका पूरी ताकत से विरोध करेगी, क्योंकि यह पूर्वोत्तर के लोगों और देश के अन्य लोगों के हितों के खिलाफ है।