रेलवे भारत और भारतवासियों की संपत्ति, नहीं होगा निजीकरण: पीयूष गोयल

रेलवे के निजीकरण की चर्चाओं के बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे भारत और भारतीयों की संपत्ति है और आगे भी रहेगी।

Avatar Written by: November 22, 2019 7:14 pm

नई दिल्ली। रेलवे के निजीकरण की चर्चाओं के बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे भारत और भारतीयों की संपत्ति है और आगे भी रहेगी। गोयल ने रेलवे के निजीकरण की संभावाओं को खारिज करते हुए कहा कि सरकार रेलवे का निजीकरण नहीं कर रही है, बल्कि यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने के लिए निजी कंपनियों से कॉमर्शल और ऑन-बोर्ड सेवाओं की आउटसोर्सिंग कर रही है।piyush goyal

राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान सवालों का जवाब देते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि रेलवे को चलाने के लिए अगले 12 वर्षों में अनुमानित तौर पर 50 लाख करोड़ रुपये की पूंजी सरकार अकेले नहीं जुटा सकती, इसलिए इस तरह के कदम उठाए गए हैं। ऊपरी सदन में गोयल ने कहा, ‘हमारा मकसद यात्रियों को बेहतर सेवाएं और फायदा देना है, न कि रेलवे का निजीकरण करना। भारतीय रेलवे भारत और देशवासियों की संपत्ति है और आगे भी रहेगी।’Piyush Goyal

बजट संबंधी दबाव और अन्य मुद्दों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘हर दिन संसद सदस्य रेलवे लाइनों और बेहतर सेवाओं की मांग लेकर मेरे पास आते हैं। रेलवे के लिए अगले 12 वर्षों में 50 लाख करोड़ रुपये जुटाना संभवन नहीं है। यह बात हम सब भलीभांति जानते हैं।’Piyush Goyal BJP

यात्रियों की बढ़ती भीड़ से निपटने के लिए हजारों नई ट्रेनें और ज्यादा से ज्यादा निवेश के बारे में जिक्र करते हुए रेल मंत्री ने कहा, ‘अगर निजी कंपनियां रेलवे में निवेश की इच्छुक हैं और मौजूदा प्रणाली को चलाना चाहती हैं तो इससे उपभोक्ताओं और यात्रियों को फायदा ही होगा।’Finance Minister Piyush Goyal

रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने कहा, ‘हम प्राइवेट कंपनियों से केवल कॉमर्शल और ऑन-बोर्ड सर्विसेज को आउटसोर्स कर रहे हैं। मालिकाना हक रेलवे के पास ही रहेगा। हम केवल लाइसेंस दे रहे हैं।’

Support Newsroompost
Support Newsroompost