राजनाथ सिंह ने पाक आतंकियों को चेताया- अगर किया भारत को परेशान, तो बख्शेंगे नहीं

उन्होंने कहा कि हमारे तटीय और समुद्री सुरक्षा बल इस आशंका के मद्देनजर पूरी सतर्कता बरत रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मैं आप लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हमारी नौसेना ऐसे किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है।

Written by: September 27, 2019 6:15 pm

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने केरल के कोल्लम में कहा कि, पाकिस्तानी आतंकी इस फिराक में हैं कि वो समुद्री रास्ते के जरिए भारत में किसी बड़े हमले को अंजाम दे। राजनाथ सिंह ने पाकिस्तानी आतंकियों को चेताते हुए कहा कि, अगर उन्होंने ऐसा सोचा भी तो हम एक भी आतंकी को बिल्कुल भी बख्शेंगे नहीं।

rajnath singh

उन्होंने कहा कि हमारे तटीय और समुद्री सुरक्षा बल इस आशंका के मद्देनजर पूरी सतर्कता बरत रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मैं आप लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हमारी नौसेना ऐसे किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है।

आध्यात्मिक गुरु माता अमृतानंदमयी के 66वें जन्मदिन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा, ‘भारत उन्हें चैन से रहने नहीं देगा, जो उसे परेशान करेंगे।’ रक्षा मंत्री पुलवामा हमले के बाद वायु सेना द्वारा बालाकोट में आतंकवादियों को निशाना बनाकर किए गए हमले का हवाला दे रहे थे।

Rajnath Singh

‘देश की समुद्री सुरक्षा पूरी तरह मजबूत है’

उन्होंने कहा, ‘हम इस बात से इनकार नहीं कर सकते हैं कि हमारे पड़ोसी देश के आतंकवादी हमारे तटों पर बड़े हमले कर सकते हैं, जो कि कच्छ से केरल तक फैला है। एक रक्षा मंत्री के तौर पर मैं यह आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारे देश की समुद्री रक्षा पूरी तरह से मजबूत है। हम पूरी तरह से तटीय और समुद्री रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं।’

indian navy

पुलवामा हमले के संबंध में उन्होंने कहा कि हमारे देश का कोई भी नागरिक हमारे सैनिकों द्वारा दी गई कुर्बानी को नहीं भूल सकता है। उन्होंने कहा, ‘आप जानते हैं कि पुलवामा हमले के कुछ दिन बाद, हमारी वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में हमले किए। हम किसी को परेशान नहीं करते हैं लेकिन अगर कोई हमें परेशान नहीं करे तो हम उन्हें चैन से नहीं बैठने देंगे।’

राजनाथ ने आगे कहा, ‘वैसा देश जो अपने सैनिकों की कुर्बानी याद नहीं करता, उसे इस दुनिया में कहीं आदर नहीं मिलता है। यह न भूलें कि जिन सैनिकों ने देश के लिए कुर्बानी दी, उनके भी माता-पिता हैं। हम उनके साथ खड़े हैं और सैनिकों के परिवारों द्वारा दी गई कुर्बानी का सम्मान करते हैं।’