पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री और मशहूर वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन

जेठमलानी देश के सबसे बेहतरीन वकीलों में गिने जाते थे। उन्होंने अपने जीवन में कई बड़े केस लड़े और जीते थे। जेठमलानी दिग्गज वकील होने के साथ-साथ केंद्रीय कानून मंत्री भी रह चुके हैं। राम जेठमलानी पिछले दो हफ्ते से गंभीर तौर पर बीमार थे।

Avatar Written by: September 8, 2019 9:22 am

नई दिल्ली। देश के दिग्गज वकीलों में शामिल राम जेठमलानी का दिल्ली में रविवार सुबह निधन हो गया है। वो 95 साल के थे। बता दें कि जेठमलानी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उनका अंतिम संस्कार आज शाम को यहां लोधी रोड श्मशान घाट पर किया जाएगा। जेठमलानी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय कानून मंत्री और शहरी विकास मंत्री भी रहे थे। छठी और सातवीं लोकसभा में जेठमलानी बीजेपी के टिकट पर मुंबई से सांसद भी चुने गए थे।

उनके निधन की खबर सुनकर गृहमंत्री अमित शाह ने राम जेठमलानी को उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी।

जेठमलानी के वकालत की बात करें तो उन्होंने आज से दो साल पहले उन्होंने सक्रिय वकालत छोड़ दी थी। वो पिछले कई महीनों से बिस्तर पर थे। राम जेठमालीन के निधन से देश न्यायिक क्षेत्र में एक युग के अंत माना जा रहा है। राम जेठमलानी के नाम के बेहद खास रिकॉर्ड है, उन्होंने 17 साल की उम्र में ही वकालत पास कर ली थी। उन्होंने कोर्ट की विशेष अनुमति के बाद 18 साल की उम्र में वकालत शुरू कर दी थी।

बता दें कि जेठमलानी देश के सबसे बेहतरीन वकीलों में गिने जाते थे। उन्होंने अपने जीवन में कई बड़े केस लड़े और जीते थे। जेठमलानी दिग्गज वकील होने के साथ-साथ केंद्रीय कानून मंत्री भी रह चुके हैं। राम जेठमलानी पिछले दो हफ्ते से गंभीर तौर पर बीमार थे।

बता दें कि जेठमलानी ने राजीव गांधी और इंदिरा गांधी की हत्या के आरोपियों से लेकर चारा घोटाला मामले में आरोपी लालू प्रसाद यादव तक का केस लड़ा था। इसके अलावा वह संसद पर अटैक मामले में अफजल गुरु से लेकर सोहराबुद्दीन एनकाउंटर में अमित शाह का केस भी लड़ चुके थे।

Supreme-Court....

साल 2010 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट बार असोसिएशन का अध्यक्ष भी चुना गया था। फिलहाल जेठमलानी आरजेडी से राज्यसभा सांसद भी थे। एक वकील होने के नाते जेठमलानी ने देश के कई बहुचर्चित केस भी लड़े हैं। इनमें कई केस काफी विवादित भी रहे हैं।

राम जेठमलानी का जन्म 14 सितंबर 1923 को सिंध प्रांत के शिकारपुर में हुआ था। इनका पूरा नाम राम बूलचंद जेठमलानी था। ट्रायल कोर्ट, हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में उन्होंने कई बड़े केस लड़े थे। उनका पहला सबसे चर्चित केस 1959 में आया, जब वे केएम नानावती बनाम महाराष्ट्र राज्य केस में वकील थे।