Uttar Pradesh: योगी सरकार के प्रयासों का नतीजा, प्रदेश में घटे नए कोविड केस, बढ़ी ठीक होने वाले मरीजों की संख्या

Uttar Pradesh: कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमित हुए दस लाख से अधिक लोग अपने ठीक होने का श्रेय समय से हुई कोविड टेस्टिंग और उसके तुरंत बाद शुरू हो गए इलाज को देते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी यही कहना है कि कोरोना संक्रमित हर व्यक्ति के इलाज और कोरोना के पूर्ण खात्मे का मंत्र ‘टेस्ट, ट्रीट और ट्रेस’ ही है।

Avatar Written by: May 4, 2021 8:40 pm

????????????????????????????????????

लखनऊ। दिल्ली से आठ गुना आबादी वाली उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से दिये कोरोना के पूर्ण खात्मे का मंत्र ‘टेस्ट, ट्रीट और ट्रेस’ असर दिखाने लगा हैं। सरकार द्वारा हर कोरोना संक्रमित मरीज के इलाज को लेकर किए जा रहे प्रबंधों और कोरोना से बचाव को लेकर चलाए जा रहे जागरूकता अभियान के तहत मोहल्ला प्रमुख का फार्मुले भी अब कारगर साबित होने लगा है। इसी का नतीजा है कि प्रदेश भर में कोरोना के टेस्ट बढ़ते जा रहे हैं और कोरोना संक्रमितों की संख्या घट रही है। कोरोना से ठीक हो रहे मरीजों के आंकड़े यह साबित कर रहें हैं, प्रदेश के लोगों के लिए यह अच्छी खबर है। राज्य में बीते 24 घंटों में 25,854 नए कोविड केस की पुष्टि हुई है, जबकि इसी अवधि में 38,683 लोग ठीक होकर अस्पतालों से अपने घर पहुंच गए हैं। प्रदेश में अब तक 10,81,817 लोगों ने कोविड को हराया है और अब यह लोग अपने परिवार के साथ हैं।

Yogi Adityanath Corona Vaccination Dry Run
कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमित हुए दस लाख से अधिक लोग अपने ठीक होने का श्रेय समय से हुई कोविड टेस्टिंग और उसके तुरंत बाद शुरू हो गए इलाज को देते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी यही कहना है कि कोरोना संक्रमित हर व्यक्ति के इलाज और कोरोना के पूर्ण खात्मे का मंत्र ‘टेस्ट, ट्रीट और ट्रेस’ ही है। इस पर अमल किया जाए। मुख्यमंत्री के इस मंत्र पर अमल करने का परिणाम है कि अब यूपी में हर दिन कोविड टेस्टिंग को लेकर नया रिकार्ड बना रहा है। यहीं नही राज्य में कोरोना से ठीक होकर अस्पतालों से घर जाने वाले मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। कोरोना टेस्टिंग के आंकड़ों के अनुसार मंगलवार को 2,08,558 लोगों की कोरोना जांच की गई, जिसमें 1,18,000 टेस्ट केवल आरटीपीसीआर माध्यम से हुए। यूपी में अबतक 4 करोड़ 18 लाख दो सौ 23 कोविड टेस्ट किये जा चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार यूपी में पिछले दस दिनों में लगातार टेस्टिंग की संख्या में इज़ाफ़ा करके कोरोना संक्रमित मरीजों को पहचान कर उनके इलाज का रिकार्ड बना दिया है। 24 अप्रैल को 1,86000 टेस्ट हुए हुए तो मिले 38 हजार संक्रमित मरीज मिले थे। लगातार दस दिनों में हुई टेस्टिंग ने संक्रमण को कम करने के लिए बड़ा काम किया है। यही वजह है कि संक्रमितों की संख्या भी घटती जा रही है। कोविड जांच के अनुपात में संक्रमण जो पहले 22 प्रतिशत था, दस दिन में संक्रमण आधे से ज्यादा घटकर 10 प्रतिशत पर पहुंच गया है। इसके साथ ही प्रदेश सरकार कोविड संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए प्रदेश में वैक्सीनेशन का कार्य तेजी से चला रही है। प्रदेश में अब तक कुल एक करोड़ 29 लाख 13 हजार 569 वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। इसमें 1,04,63,033 वैक्सीन की पहली डोज और 24 लाख 50 हजार 536 दूसरी डोज शामिल है।

Yogi Adityanath Corona Vaccination Dry Run

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार प्रदेश सरकार की ट्रेस्ट, ट्रीट और ट्रेस जैसी एग्रेसिव रणनीति की वजह से मरीज की जल्दी पहचान हो रही है और उसका इलाज हो जा रहा है। इसकी वजह से पॉजिटिविटी रेट भी घटने लगा है। क्योंकि टेस्टिंग के दौरान अस्वस्थ्य पाए जाने वाले व्यक्ति अब तुरंत इलाज शुरू कर दिया जाता है, जिसके चलते कोरोना संक्रमण पर अंकुश लग रहा है। इसके अलावा सरकार द्वारा प्रदेश भर में चलाए जा रहे विशेष स्वच्छता अभियान, सर्विलांस, वृहद स्तर पर शुरू हुआ टीकाकरण का अभियान, निगरानी समितियों की ओर से प्रवासियों की जांच जैसे कोरोना से लड़ने के हथियारों से सरकार कोरोना से जीतने में जुटी है। होम आइसोलेशन को बढ़ावा देकर मरीजों को दी जा रही डॉक्टरों की सलाह, दवाई भी इस कड़ी में कारगर साबित हुआ है। इन सबके परिणामों से प्रदेश की सेहत में सुधार आता जा रहा है। अब तो कोविड महामारी से गांवों को सुरक्षित रखने के लिए प्रदेश सरकार गांव-गांव में कोविड टेस्टिंग का अभियान चलाने जा रही है। पांच मई से शुरू होने वाले इस अभियान के तहत गांवों में दस लाख से अधिक एंटीजन टेस्ट करके कोरोना की घुसपैठ को गांवों में रोका जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में एंटीजन टेस्ट करने के लिए 10 लाख एंटीजन किट उपलब्ध कराई गई है और 10 लाख से अधिक मेडिकल किट बांटे जाएंगे। एंटीजन टेस्ट में जो ग्रामीण कोरोना संक्रमित पाया जाएगा, उसका गांव में ही तत्काल इलाज शुरू किया जाएगा। कोरोना संक्रमित ग्रामीण को इलाज के लिए दवाई वाली एक कोविड किट और आयुष काढ़ा दिया जाएगा।

Support Newsroompost
Support Newsroompost