जमीयत ने हटाया, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड मनाने में जुटा, रिव्यू पिटीशन बनी राजीव धवन को हटाने की वजह!

जानकारी के मुताबिक सभी मुस्लिम पक्षकारों ने हाल ही में राजीव धवन के साथ मीटिंग की थी। इस मीटिंग में  रिव्यू पिटिशन डालने पर सहमति बन गई थी। राजीव धवन के पास इस रिव्यू पिटिशन को अंतिम रूप देने की जिम्मेदारी दी गई थी।

Written by: December 3, 2019 1:54 pm

नई दिल्ली। बाबरी पक्ष के वकील राजीव धवन को केस से हटाने के मामले में नया मोड़ आ गया है। जमीअत उलमा ए हिंद ने उन्हें इस मामले की पैरवी से हटा दिया है। वहीं दूसरी पार्टियां उन्हें मनाने में जुटी हैं। सूत्रों के मुताबिक राजीव धवन रिव्यू पिटिशन के पक्ष में खड़े हुए थे।

rajeev dhawan

जमीयत उलेमा ए हिंद ने उन्हें हटाने के पीछे खराब स्वास्थ्य को वजह बताया है। मगर इस वजह को खुद राजीव धवन ने खारिज कर दिया। इस मामले में पांच अन्य पार्टियां हैं जो राजीव भवन को अपनी ओर से पैरवी करने के लिए मनाने में जुटी हुई हैं।  सूत्रों के मुताबिक  ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मामले में अगुआ बना हुआ है  व राजीव धवन को किसी तरह मनाने की कोशिश में है।

Advocate Rajeev Dhawan

जानकारी के मुताबिक सभी मुस्लिम पक्षकारों ने हाल ही में राजीव धवन के साथ मीटिंग की थी। इस मीटिंग में  रिव्यू पिटिशन डालने पर सहमति बन गई थी। राजीव धवन के पास इस रिव्यू पिटिशन को अंतिम रूप देने की जिम्मेदारी दी गई थी। मगर अचानक ही जमीयत उलेमा ए हिंद के वकील एजाज मकबूल ने  राजीव धवन से  विचार विमर्श किए बगैर ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी।

Advocate Rajeev Dhawan

सूत्रों के मुताबिक जमीयत उलेमा ए हिंद के मुखिया अरशद मदनी रिव्यू पिटिशन को लेकर अधिक उत्साहित नहीं थे। मगर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड खुलकर इसके समर्थन में आ गया। राजीव धवन रिव्यू पिटिशन के पीछे की बड़ी वजह बताए जा रहे हैं। केस से जुड़े सारे महत्वपूर्ण फैसले भी वही लेते आए थे। उनकी इस केस से रुखसती के पीछे यही वजह बताई जा रही है।