एम्स में पड़ा डाका, करोड़ों की रकम पार, एसबीआई को ठहराया जिम्मेदार!

12 करोड़ रुपये एम्स के जिन दो खातों से निकाले गए हैं, उनमें से एक खाता एम्स के निदेशक के नाम और दूसरा खाता डीन के नाम का है। साइबर ठगी की इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने वाले पूरी तैयारी के साथ आए थे।

Written by: December 1, 2019 12:18 pm

नई दिल्ली। एम्स के खातों पर डाका पड़ा है। इस डाके में करोड़ों गायब हो गए हैं। साइबर ठगी के इस मामले ने सभी को हैरान कर दिया है। बड़ी बात यह है कि एम्स ने इस मामले में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को जिम्मेदार ठहराया है। एक दिलचस्प बात यह भी है कि अभी तक इस मामले को सीबीआई के हवाले नहीं किया गया है।

AIIMS

एम्स में साइबर ठगीकर अस्पताल के दो अलग-अलग बैंक खातों से करीब 12 करोड़ रुपये निकाल लिए गए हैं। इस खुलासे के बाद एम्स में हड़कंप मचा हुआ है। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा इस मामले की जांच कर रही है। भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार 3 करोड़ रुपये से ऊपर की ठगी के मामलों की जांच सीधे-सीधे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के हवाले कर दी जाए। लेकिन अभी तक सीबीआई में इस मामले को दर्ज नहीं कराया गया है।

aiims

12 करोड़ रुपये एम्स के जिन दो खातों से निकाले गए हैं, उनमें से एक खाता एम्स के निदेशक के नाम और दूसरा खाता डीन के नाम का है। साइबर ठगी की इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने वाले पूरी तैयारी के साथ आए थे। इस वारदात को चेक-क्लोनिंग के जरिए दिया गया है। एम्स निदेशक वाले खाते से करीब सात करोड़ रुपये और डीन वाले खाते से करीब पांच करोड़ रुपये की रकम निकाले जाने की बात फिलहाल सामने आई है।

AIIMS

एम्स प्रशासन ने इस मामले की एक गोपनीय रिपोर्ट केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजी है जिसमे स्टेट बैंक को जिम्मेदार ठहराया है। हड़बड़ाए एसबीआई ने भी देश भर में ‘अलर्ट’ जारी कर दिया है। दिल्ली पुलिस की ईओडब्ल्यू भी जांच में जुट गई है। इस बात की भी जांच की जा रही है कि कहीं इस रैकेट के तार देश के दूसरे संस्थानों तक तो नहीं फैले हैं।