सैम पित्रोदा ने 1984 सिख दंगों पर टिप्पणी के लिए माफी मांगी

उन्होंने कहा कि उनकी हिंदी अच्छी नहीं है, और इसलिए उनके बयान का गलत अर्थ निकाला गया। इंडियन ओवरसीस कांग्रेस के अध्यक्ष पित्रोदा ने गुरुवार को 1984 के सिख विरोधी दंगे को यह कहकर खारिज कर दिया था, “हुआ तो हुआ।”

Written by: May 11, 2019 8:15 am

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने 1984 के सिख दंगों के संबंध में अपनी विवादास्पद टिप्पणी के लिए शुक्रवार को माफी मांग ली। उन्होंने कहा कि उनकी हिंदी अच्छी नहीं है, और इसलिए उनके बयान का गलत अर्थ निकाला गया। इंडियन ओवरसीस कांग्रेस के अध्यक्ष पित्रोदा ने गुरुवार को 1984 के सिख विरोधी दंगे को यह कहकर खारिज कर दिया था, “हुआ तो हुआ।”

Sam Pitroda

पित्रोदा ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, “मेरे बयान को पूरी तरह अलग रंग दिया गया और उसे संदर्भ से बाहर लिया गया, क्योंकि मेरी हिंदी अच्छी नहीं है। मेरा मतलब था ‘जो हुआ वो बुरा हुआ’। लेकिन मैं बुरा का अनुवाद अपने दिमाग में नहीं कर सका।”

सैम पित्रोदा ने कहा कि भाजपा सरकार ने क्या किया और क्या दिया, इस पर चर्चा करने के लिए हमारे पास अन्य मुद्दे हैं। मुझे खेद है कि मेरी टिप्पणी को गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया, मैं माफी मांगता हूं। इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया गया।

sam pitroda and rahul gandhi

वहीं सिख दंगों पर सैम पित्रोदा के  बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को खुद सफाई देनी पड़ी। उन्होंने  देर रात फेसबुक पोस्ट लिखकर पित्रोदा के बयान को पार्टी लाइन से अलग और पूरी तरह गलत बताया।

राहुल ने लिखा कि 1984 एक भयावह त्रासदी थी। इसमें न्याय होना चाहिए। जो लोग भी इसके लिए जिम्मेदार हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और मेरी मां सोनिया गांधी भी इस बारे में माफी मांग चुकी हैं। हमरा पक्ष स्पष्ट है कि 1984 जैसी भयावह त्रासदी कभी नहीं होनी चाहिए। राहुल ने कहा कि मैंने खुद पित्रोदा को इस बयान के लिए माफी मांगने को कहा है।