महाराष्ट्र: संजय राउत से मुलाकात के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कही ये बड़ी बात

महाराष्ट्र में जारी सियासी गतिरोध के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शिवसेना सांसद संजय राउत से मुलाकात की। मुलाकात के बाद एनसीपी चीफ ने कहा कि हम विपक्ष में बैठेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से हमें कोई प्रस्ताव नहीं मिला है।

Avatar Written by: November 6, 2019 1:54 pm

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में जारी सियासी गतिरोध के बीच आज एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शिवसेना सांसद संजय राउत से मुलाकात की। मुलाकात के बाद एनसीपी चीफ ने कहा कि हम विपक्ष में बैठेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से हमें कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि मेरे पास नंबर नहीं है, कैसे सरकार बनाएं। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए दो दिन का वक्त बचा है, ऐसे में शिवसेना नेता संजय राउत ने बुधवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की थी।

Sharad Pawar NCP Chief

पवार ने कहा, “भाजपा-शिवसेना 25 साल से सहयोगी हैं। उन्हें राज्य को नई सरकार देने के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए। जनता ने राकांपा-कांग्रेस को विपक्ष में बैठने का जनादेश दिया है और हम इसके लिए तैयार हैं।”

परोक्ष रूप से शिवसेना के रुख का समर्थन करते हुए पवार ने कहा कि वह राज्य में शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को देखने के लिए उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं। बुधवार को यहां एक सवाल के जवाब में पवार ने कहा कि सरकार गठन के मुद्दे पर शिवसेना की ओर से कोई प्रस्ताव नहीं आया है। पवार ने दावा किया, “संजय राउत (शिवसेना सांसद) मुझसे मिले, क्योंकि वह नियमित रूप से मुझसे मिलते हैं। शिवसेना की ओर से कोई प्रस्ताव (सरकार के गठन पर) नहीं है।”

उन्होंने स्वीकार किया कि राउत ने 170 विधायकों की एक सूची दिखाई है, जो शिवसेना का समर्थन कर रहे हैं। मगर इसके साथ ही उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि उन्हें (राउत को) आंकड़े कैसे मिले हैं।”

Sharad Pawar NCP Chief

एक सवाल के जवाब में पवार ने कहा कि वह भाजपा-शिवसेना के बीच राज्य में सरकार के गठन के प्रयासों में शामिल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल पहले भाजपा को सरकार बनाने दें, क्योंकि वर्तमान में लोगों के जनादेश के अनुसार सिर्फ भाजपा-शिवसेना द्वारा सरकार बनाने का ही विकल्प उपलब्ध है।
पवार ने भाजपा व शिवसेना को राज्य में राजनीतिक अस्थिरता को समाप्त करने और स्थिर सरकार देने के लिए प्रयास करने का आग्रह किया।

पवार के जवाब के पर राउत ने शुरुआती प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा को दोबारा चुनौती देते हुए कहा, “जिनके पास 105 विधायक हैं, उन्हें सरकार बनानी चाहिए।”

इससे उन्होंने परोक्ष रूप से यह स्पष्ट कर दिया है कि मुख्यमंत्री के पद का मुद्दा सुलझने तक भाजपा पर शिवसेना का दवाब कायम रहेगा। भाजपा इस मुद्दे पर कोई समझौता करने को तैयार नहीं है। शरद पवार ने दिल्ली में पुलिस और वकीलों के बीच हुए टकराव पर भी बात की। उन्होंने कहा कि जिस तरीके से पुलिस के साथ व्यवहार किया गया वो काफी गलत है, खासतौर पर तब जब वो उन पर वर्दी में ही अटैक हुआ। इससे उनका आत्मविश्वास कम हुआ है।

Sanjay Raut

शरद पवार से मुलाकात से पहले संजय राउत ने मुख्यमंत्री पद के लिए अपनी पार्टी की मांग को दोहराया और कहा कि भाजपा के साथ अब किसी नए विकल्प पर चर्चा नहीं होगी। मुलाकात के बाद संजय राउत ने कहा, ‘पवार साहब से मेरी आज मुलाकात हुई। पवार साहब देश के महाराष्ट्र के बड़े नेता हैं, मार्गदर्शक हैं सबके। उन्हें भी चिंता है कि राज्य में सरकार क्यूं नहीं बन रही। अभी राज्य में अस्थिरता है, उन्होंने भी बातचीत में चिंता जताई। हमने थोड़ी बहुत बातचीत की। आगे की बात आगे सोचेंगे।’

Support Newsroompost
Support Newsroompost