चुनाव से पहले बढ़ सकती हैं मुलायम-अखिलेश की मुश्किलें, इस मामले में SC ने सीबीआई को भेजा नोटिस

मामले के मूल याचिकाकर्ता विश्वनाथ चतुर्वेदी ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। विश्वनाथ चतुर्वेदी ने अपनी अर्जी में मांग की है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने सुप्रीम कोर्ट के 2007 और 2012 के आदेश के तहत क्या करवाई की है, इसकी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट या निचली अदालत में दाखिल करे।

Written by Newsroom Staff March 25, 2019 11:48 am

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव नजदीक हैं ऐसे में चुनाव से पहले मुलायम और अखिलेश यादव मुसीबत में फंसते नजर आ रहे हैं। बता दें, आय से अधिक संपत्ति मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव और उनके बेटे अखिलेश यादव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी कर दो हफ्ते में जवाब मांगा है।

दरअसल मामले के मूल याचिकाकर्ता विश्वनाथ चतुर्वेदी ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। विश्वनाथ चतुर्वेदी ने अपनी अर्जी में मांग की है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने सुप्रीम कोर्ट के 2007 और 2012 के आदेश के  तहत क्या करवाई की है, इसकी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट या निचली अदालत में दाखिल करे। 2012 में इस मामले में मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव और प्रतीक यादव की पुनर्विचार याचिका भी कोर्ट खारिज कर चुका है।

Akhilesh Yadav,SP President

आपको बता दें कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान सीबीआई को जांच रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने याचिका पर सुनवाई के दौरान याचिका की टाइमिंग पर कहा कि हमें कोई मतलब नहीं है। पीठ ने कहा कि जब सीबीआई ने 2007 में कहा- प्रथम दृष्ट्या केस बनता है तो एफआईआर दर्ज क्यों नहीं की गई। कोर्ट ने इस मामले में सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।