एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सहमत नहीं: रविशंकर प्रसाद

Written by: April 2, 2018 12:25 pm

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने एससी/एसटी एक्ट पर आज सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी है। बीते 20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट की ओर से एससी/एसटी ऐक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगाने और अग्रिम जमानत को मंजूरी दिए जाने के फैसले के खिलाफ यह याचिका दाखिल की गई है। शीर्ष अदालत के इस फैसले को तमाम दलित संगठनों समेत कई राजनीतिक दलों ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया था।

supreme court of india
सरकार के फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हमारी सरकार दलितों एवं आदिवासियों के अधिकारों के प्रति संकल्पबद्ध है। कुछ लोग आंबेडकर के नाम पर राजनीति कर रहे हैं, लेकिन उन्हें सम्मान देने का काम हम कर रहे हैं।
ravi shankar

आंबेडकर को भारत रत्न सम्मान भी भाजपा के समर्थन वाली वीपी सिंह सरकार के दौर में ही मिला था। कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘सबसे ज्यादा दलित एमपी भाजपा के हैं। हमने आंबेडकर जी के स्मारक को स्थापित करने का काम किया।’

SC-ST Protection

इस मामले पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है, ‘सरकार के बड़े वकील इस पूरे मामले में पैरवी करेंगे और तथ्यों को सही परिप्रेक्ष्य में रखेंगे।’ उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से सरकार भी सहमत नहीं है। साथ ही रविशंकर ने कहा आरक्षण समेत किसी मुद्दे पर दलित हित पर सरकार आंच नहीं आने देगी।