नौकरशाह से राजनेता बने फैसल शाह को हिरासत में लेकर वापस भेजा गया कश्मीर, जा रहे थे विदेश

शाह फैसल को घर में नजरबंद भी कर दिया गया है। गिरफ़्तारी को लेकर जानकारी है कि फैसल को पब्लिक सेफ्टी एक्ट(पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक शाह फैसल इंस्तांबुल की ओर जा रहे थे।

Written by Newsroom Staff August 14, 2019 5:31 pm

नई दिल्ली। ब्यूरोक्रेट से राजनेता बने शाह फैसल को बुधवार को देश छोड़ने से रोक दिया गया और वापस श्रीनगर भेज दिया गया। एक आव्रजन अधिकारी के अनुसार, इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रोकने के बाद फैसल को दूसरी उड़ान से जम्मू-कश्मीर वापस भेज दिया गया।


बता दें कि शाह फैसल को घर में नजरबंद भी कर दिया गया है। गिरफ़्तारी को लेकर जानकारी है कि फैसल को पब्लिक सेफ्टी एक्ट(पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक शाह फैसल इंस्तांबुल की ओर जा रहे थे। अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली में पीएसए के तहत शाह फैसल को हिरासत में लिया गया था। जब शाह फैसल श्रीनगर पहुंचे, उन्हें दोबारा हिरासत में लिया गया।

जे एंड के पीपल्स मूवमेंट पार्टी के अध्यक्ष फैसल ने जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द करने के भारत सरकार के फैसले को संकटपूर्ण बताया था। शाह फैसल ने कहा था कि हमारे सामने दो ही रास्ते हैं, कश्मीर कठपुतली बने या अलगाववादी, इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है।

शाह फैसल ने कहा था कि राजनीतिक अधिकारों को दोबारा पाने के लिए कश्मीर को लंबे, निरंतर और अहिंसक राजनीतिक आंदोलन की जरूरत है।

शाह फैसल ने ईद-उल-अजहा(बकरीद) के मौके पर भी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि कश्मीर में ईद नहीं है। पूरी दुनिया में कश्मीर के लोग अपनी जमीन के गलत तरीके से भारत में शामिल होने से रो रहे हैं। हमारे यहां तब तक ईद नहीं होगी जब तक 1947 से मिला विशेष राज्य का दर्जा हमें वापस नहीं किया जाएगा।

जब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 को हटाए जाने का फैसला लिया था तब भी शाह फैसल ने कहा था कि कश्मीर में खौफ फैला हुआ है। उन्होंने कहा था कि सबका दिल टूट रहा है। हर चेहरे पर हार का भाव दिखाई दे रहा है। इतिहास ने हम सभी के लिए एक भयावह मोड़ ले लिया है, लोग स्तब्ध हैं।