शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस की तैयारियों के बीच भाजपा ने किया महाराष्ट्र में सरकार बनाने का दावा

आपको बता दें कि महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने मीडिया के सामने राज्य में सरकार बनाने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि हमारे पास सबसे ज्यादा विधायक हैं। 119 विधायकों (105 बीजेपी और 14 निर्दलीय) के साथ बीजेपी राज्य में सरकार बनाएगी।

Written by: November 15, 2019 7:58 pm

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस साथ आ गई है और तीनों ही दलों ने एक साथ आकर इस बारे में जानकारी दी है। हालांकि, महाराष्ट्र में चुनाव परिणामों के बाद भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी और अब भाजपा ने दावा किया है कि, सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार भाजपा ही बनाएगी।

Congress Shivsena NCP

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने किया दावा

maharashtra bjp chief

आपको बता दें कि महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने मीडिया के सामने राज्य में सरकार बनाने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि हमारे पास सबसे ज्यादा विधायक हैं। 119 विधायकों (105 बीजेपी और 14 निर्दलीय) के साथ बीजेपी राज्य में सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि देवेंद्र फडणवीस ने पार्टी के नेताओं के सामने यह विश्वास जताया था। प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष ने आगे कहा कि हम राज्य को एक स्थिर सरकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। बीजेपी के बिना महाराष्ट्र में कोई सरकार नहीं हो सकती।

devendra fadanvis chandrakant patil

चंद्रकांत पाटिल ने आगे कहा कि बीजेपी के सभी विधायक अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाएंगे और किसानों की दुर्दशा को समझेंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि बैठक में बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत बनाने के बारे में भी चर्चा हुई।

दूसरे खेमे में भी है सरकार बनाने की पूरी तैयारी

वहीं दूसरे खेमे में भी पूरी तैयारी है। शिवसेना-कांग्रेस और एनसीपी के बीच सरकार बनाने के लिए लगभग सहमति बन गई है। हालांकि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे में से कौन मुख्यमंत्री बनेगा यह तस्वीर अभी तक साफ नहीं हुई है। तीनों दलों के बीच कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (सीएमपी) को लेकर सहमति बन रही है।

shivsena congress NCP

इस फॉर्मूले के तहत शिवसेना को पूरे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद मिलेगा, जबकि कांग्रेस और एनसीपी के एक-एक डिप्टी सीएम होंगे। इसके अलावा मंत्रिमंडल में एनसीपी को 14, कांग्रेस को 12 मंत्री पद मिलेंगे। शिवसेना के खाते में मुख्यमंत्री पद के अलावा 14 मंत्री पद की सहमति बनी है।