राष्ट्रपति-राज्यपाल के कार्यालय के दुरुपयोग का प्रयास देश के लिए खतरा : शिवसेना

संजय राउत ने कहा, “राष्ट्रपति देश का संवैधानिक प्रमुख है.. वह किसी की जेब में नहीं है। इस तरह की धमकी देना जनता के जनादेश का अपमान है।” उन्होंने कहा कि ना तो कोई भी ‘मराठी मानूस’ मुनगंटीवार के बयान से सहमत है और न ही शिवसेना को इस तरह की धमकियों से रोका जा सकता है।

Written by: November 2, 2019 12:02 pm

नई दिल्ली। शिवसेना ने शनिवार को आगाह करते हुए कहा कि राष्ट्रपति देश का संवैधानिक प्रमुख है और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा राष्ट्रपति या राज्यपाल के कार्यालय का दुरुपयोग करने का कोई भी प्रयास ‘देश के लिए खतरा’ है। भाजपा के वरिष्ठ नेता सुधीर मुनगंटीवार ने शुक्रवार को कहा था कि यदि महाराष्ट्र में 7 नवंबर तक सरकार नहीं बनती है, तो ऐसी स्थिति में राज्य में राष्ट्रपति शासन लग सकता है।

shivsena sanjay raut
भाजपा नेता पर निशाना साधते हुए शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि राज्य के राजनीतिक संकट में राष्ट्रपति कार्यालय को इस तरह से घसीटना ‘अनुचित और गलत’ है।

Shivsena Party Logo
राउत ने कहा, “राष्ट्रपति देश का संवैधानिक प्रमुख है.. वह किसी की जेब में नहीं है। इस तरह की धमकी देना जनता के जनादेश का अपमान है।” उन्होंने कहा कि ना तो कोई भी ‘मराठी मानूस’ मुनगंटीवार के बयान से सहमत है और न ही शिवसेना को इस तरह की धमकियों से रोका जा सकता है।

BJP shivsena Flag
उन्होंने दोहराया कि शिवसेना अपने गठबंधन की प्रतिबद्धताओं को भाजपा के साथ ‘अंतिम क्षण तक’ सम्मान देगी। लेकिन इसके बाद ‘रूको और देखो’ की नीति को नहीं अपनाया जाएगा।