सिद्धू की मुराद हुई पूरी, पाकिस्तान जाने का रास्ता साफ

नवजोत सिंह सिद्धू ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर पाकिस्तान जाने की अनुमति मांगी थी। उन्होंने गुरुवार को तीसरी बार विदेश मंत्री एस जयशंकर को खत लिखा और जाने की अनुमति देने की बात कही थी।

Written by: November 7, 2019 7:50 pm

नी दिल्ली। कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने का न्योता दिया था। इसके बाद से सिद्धू पाकिस्तान जाने के लिए काफी ज्यादा उतावले दिख रहे थे और उन्होंने विदेश मंत्रालय और पंजाब सरकार से पत्र लिखकर अनुमति मांगी थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, अब सिद्धू की मुराद पूरी हो गई है और उन्हें अनुमति मिल गई है।

navjot singh siddhu

नवजोत सिंह सिद्धू ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर पाकिस्तान जाने की अनुमति मांगी थी। उन्होंने गुरुवार को तीसरी बार विदेश मंत्री एस जयशंकर को खत लिखा और जाने की अनुमति देने की बात कही थी।

navjot_110719073336.png

सिद्धू ने लिखा था पत्र

सिद्धू ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को लिखे अपने तीसरे पत्र में कहा कि अगर उन्हें करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए सरकार की ओर से इजाजत नहीं मिलती है तो आम नागरिक की तरह वह भी नहीं जाएंगे, लेकिन अगर इस संबंध में किसी तरह का कोई जवाब नहीं आता है तो वह पाकिस्तान चले जाएंगे।

Navjot Singh Siddhu

इससे पहले बुधवार को पाकिस्तान उच्चायोग ने नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तान जाने के लिए वीजा जारी कर दिया था। सिद्धू को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान जाना है, और इसके लिए उन्हें भारत सरकार से राजनीतिक मंजूरी चाहिए थी जो अब मिल गई है।

चाहिए थी राजनीतिक मंजूरी

s jaishankar

वीजा के साथ, नवजोत सिंह सिद्धू वाघा बॉर्डर तो पार कर सकते थे लेकिन एक भारतीय राज्य विधायिका के निर्वाचित प्रतिनिधि के रूप में उन्हें राजनीतिक मंजूरी की आवश्यकता होगी। इसके लिए उन्हें यह मंजूरी चाहिए थी।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान करतारपुर कॉरिडोर का 9 नवंबर को उद्घाटन करेंगे। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नवजोत सिंह सिद्धू को विशेष न्योता भेजा।

KARTARPUR CORRIDOR

खास बात यह रही कि इमरान ने करतारपुर कॉरिडोर के लिए पहला पास नवजोत सिद्धू को ही दिया। ये पास पाकिस्तान हाई कमीशन की ओर से जारी किया गया। पास के साथ इमरान खान का निमंत्रण भी है।