अयोध्या में फैसले से पहले हलचल बढ़ी, प्रशासन ने घोषित की नए सिरे से छुट्टियां

5 नवंबर व 7 नवंबर को प्रशासन ने स्थानीय अवकाश घोषित कर दिया है। जिलाधिकारी ने 14 कोसी परिक्रमा के  मद्देनजर  5 नवंबर का अवकाश घोषित किया है। इसी तरह  पंचकोशी यात्रा के मद्देनजर 7 नवंबर का अवकाश घोषित किया गया है।

Avatar Written by: November 4, 2019 7:00 pm

नई दिल्ली। अयोध्या में हलचल तेज़ हो गयी है। उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट 17 नवम्बर तक फैसला सुना देगा। इसी के मद्देनज़र अयोध्या में कई तरह के नए निर्देश जारी किए जा रहे हैं।

Ayodhya- supreme court

5 नवंबर व 7 नवंबर को प्रशासन ने स्थानीय अवकाश घोषित कर दिया है। जिलाधिकारी ने 14 कोसी परिक्रमा के  मद्देनजर  5 नवंबर का अवकाश घोषित किया है। इसी तरह  पंचकोशी यात्रा के मद्देनजर 7 नवंबर का अवकाश घोषित किया गया है। पहले ये अवकाश 6 नवंबर व 8 नवंबर को था। अब 6 नवंबर 8 नवंबर का अवकाश निरस्त कर दिया गया हैै।

Ayodhya railway station

प्रशासन ने इसके साथ ही मीडिया कवरेज के भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं। मीडिया कर्मियों को बिना अनुमति किसी भी तरह के डिबेट करने पर रोक लगा दी गई है। साथ ही यह भी निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि इंस्टाग्राम, ट्विटर और वाट्सऐप पर महान हस्तियों, देवताओं और भागवान पर कोई अपमानजनक टिप्पणी करने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए।

Supreme-Court

जिला प्रशासन की अनुमति के बिना किसी भी देवता की कोई भी मूर्ति स्थापित नहीं की जाएगी।’ आदेश में यह भी कहा गया है कि इस अवधि के दौरान त्योहारों और अन्य घटनाओं को देखते हुए प्रतिबंध लगाए गए हैं। जिसमें छठ पूजा, कार्तिक पूर्णिमा, पंचकोसी परिक्रमा, चौधरी चरण सिंह जयंती, गुरू नानक देव जयंती, गुरू तेग बहादुर शहीद दिवस, ईद-उल-मिलाद और क्रिसमस शामिल हैं।

supreme court

इस आदेश को पहली बार 10 अक्तूबर को सार्वजनिक किया गया था। अब इसे 30 विस्तृत निर्देशों के साथ संशोधित किया गया है जिन्हें नागरिक समाज के प्रतिनिधियों के साथ साझा किया जा रहा है। यह किसी भी तरह के समारोह, सार्वजिक कार्यक्रम, जुलूस, रैली और रामजन्मभूमि पर वॉल पेटिंग (भित्ती चित्र) पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाता है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost