सस्पेंस हुआ खत्म, सुमित्रा महाजन ने किया लोकसभा चुनाव न लड़ने का ऐलान, लिखी ये चिट्ठी

उन्होंने एक पत्र जारी करते हुए कहा कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। साथ ही उन्होंने सवाल भी किया कि अभी तक प्रत्याशी का ऐलान क्यों नहीं किया गया है।

Written by Newsroom Staff April 5, 2019 2:44 pm

नई दिल्ली। इंदौर लोकसभा सीट के लिए पिछले कई दिनों से जारी सस्पेंस औऱ उठापटक को सुमित्रा महाजन ने अपनी ओर से खत्‍म कर दिया है। उन्होंने ऐलान कर दिया है कि वह अब लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। मीडिया में उन्होंने एक खुला पत्र जारी किया है।

Sumitra Mahajan

उन्होंने एक पत्र जारी करते हुए कहा कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। साथ ही उन्होंने सवाल भी किया कि अभी तक प्रत्याशी का ऐलान क्यों नहीं किया गया है।

sumitra-mahajan

एक पत्र जारी करते हुए उन्होंने इस बात का ऐलान किया। सुमित्रा महाजन ने सवाल किया कि उनकी पार्टी ने इंदौर लोकसभा सीट से अभी तक प्रत्याशी का ऐलान क्यों नहीं किया है, क्या पार्टी को किसी तरह का संकोच हो रहा है। उन्होंने पूछा कि अनिर्णय की स्थिति क्यों है?

लोकसभा स्पीकर ने कहा कि शायद पार्टी को निर्णय लेने में कोई संकोच हो रहा है, मैंने पहले ही ये फैसला उनपर छोड़ दिया था। इसलिए वह ऐलान कर रही हैं कि वह खुद चुनाव नहीं लड़ेंगी, ताकि पार्टी बिना किसी संकोच के साथ निर्णय ले सके।

आपको बता दें कि सुमित्रा महाजन इंदौर लोकसभा सीट से लगातार 8 बार चुनाव जीत चुकी हैं। उनकी उम्र 75 पार हो चुकी है, इसलिए ऐसी बातें सामने आ रही थी कि पार्टी इस बार उन्हें टिकट नहीं देना चाहती है। हालांकि, उनकी जगह उम्मीदवार कौन होगा, इस पर अभी तक फैसला नहीं हुआ है।

मध्य प्रदेश की कुल 29 लोकसभा सीटों पर इस बार चार चरण में चुनाव हो रहे हैं। मध्य प्रदेश में 29 अप्रैल, 6, 12 और 19 मई को मतदान होगा।

गौरतलब है कि इससे पहले भी टिकट को लेकर कई वरिष्ठ नेता सवाल उठा चुके हैं। भारतीय जनता पार्टी ने इस बार किसी भी 75+ उम्र वाले नेताओं को टिकट नहीं दिया है। इनमें लालकृष्ण आडवाणी की गांधीनगर, मुरली मनोहर जोशी का कानपुर, शांता कुमार का हिमाचल प्रदेश से टिकट काटा गया है। आडवाणी की जगह इस बार भाजपा अध्यक्ष अमित शाह चुनाव लड़ रहे हैं।

Sumitra Mahajan, lok sabha speaker

सुमित्रा महाजन से पहले मुरली मनोहर जोशी भी टिकट ना मिलने से खफा हो चुके हैं। मुरली मनोहर जोशी ने तब कहा था कि उन्हें चुनाव नहीं लड़ने के लिए कहा गया है, लेकिन वह इस बात से खफा थे कि पार्टी अध्यक्ष ने उन्हें खुद इस बात की जानकारी नहीं दी थी।

 

Facebook Comments