आखिर क्या है अदालत में राहुल गांधी की नागरिकता के खिलाफ दायर मामला

राहुल गांधी एक तरफ तो कांग्रेस के अध्यक्ष हैं दूसरी तरफ पार्टी के स्टार प्रचारक। वह अप्रैल और मई की तपती दोपहरी में लगातार अपनी पार्टी को सत्ता के मुहाने तक लाने के लिए देश में बिना रूके जनता के बीच जाकर समर्थन मांग रहे हैं।

Avatar Written by: May 2, 2019 6:16 pm

नई दिल्ली। राहुल गांधी एक तरफ तो कांग्रेस के अध्यक्ष हैं दूसरी तरफ पार्टी के स्टार प्रचारक। वह अप्रैल और मई की तपती दोपहरी में लगातार अपनी पार्टी को सत्ता के मुहाने तक लाने के लिए देश में बिना रूके जनता के बीच जाकर समर्थन मांग रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ उनकी खुद की नागरिकता का मामला अदालत के पैसले की बाट जोह रहा है। 2015 में एक बार अदालत ने उनके विदेशी नागरिक होने को लेकर दायर याचिका को खारिज कर दिया था लेकिन अभी भी उनका पीछा उनकी विदेशी नागरिकता वाली बात छोड़ नहीं रहा है।

राहुल गांधी की नागरिकता का मसला एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा है। जिसपर सुप्रीम कोर्ट अगले हफ्ते सुनवाई करेगा। इस याचिका में कहा गया है कि गृह मंत्रालय राहुल गांधी की नागरिकता को लेकर मिली शिकायत पर जल्द कार्रवाई करे और राहुल को चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य करार दिया जाए। साथ ही इस याचिका में ये बी मांग की गई है कि मतदाता सूची से भा राहुल गांधी का नाम जल्द से जल्द हटाया जाए।

यह याचिका यूनाइटेड हिंदू फ्रंट के जयभगवान गोयल और हिंदू महासभा के चंद्रप्रकाश कौशिक ने दाखिल की है। ध्यान रहे कि राहुल गांधी की नागरिकता का मुद्दा 2015 के दिसंबर में भी सुप्रीम कोर्ट ले जाया गया था। तब कोर्ट ने नागरिकता के संबंध में पेश किए गए सबूतों को खारिज कर दिया था।Rahul Gandhi

वहीं विदेशी नागरिकता के मसले पर गृह मंत्रालय ने पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को नोटिस जारी किया था और 15 दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा था। गृह मंत्रालय ने भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की शिकायत के आधार पर नोटिस जारी किया था। स्वामी का दावा है कि राहुल गांधी के पास ब्रिटेन की नागरिकता है और उनके पास इसे साबित करने के लिए सबूत है। वहीं इसी नागरिकता मसले को लेकर अमेठी में राहुल गांधी के नामांकन के बाद उनकी उम्मीदवारी तय होने से पहले रोक लगा दी गई थी और उनसे जवाब मांगा गया था हालांकि बाद में निर्वाचन आयोग के अधिकारियों द्वारा उनकी उम्मीदवारी को सही ठहराया गया और उन्हें चुनाव लड़ने की इजाजत दे दी गई।Rahul Gandhi

वहीं कांग्रेस राहुल गांधी का बचाव करने के लिए उतर आई है। कांग्रेस का कहना है कि राहुल गांधी जन्म से ही भारतीय हैं। गृह मंत्रालय की नोटिस के बाद प्रियंका गांधी ने नागरिकता पर सवाल को बकवास करार दिया था। उन्होंने कहा था, ”पूरा हिंदुस्तान जानता है कि राहुल गांधी हिंदुस्तानी हैं। लोगों ने देखा है कि राहुल यहीं पैदा हुए और बड़े हुए।”

राहुल गांधी की नागरिकता को लेकर बवाल तब शुरू हुआ जब गांधी की नागरिकता का मुद्दा भाजपा के राज्यसभा सदस्य सुबह्मण्यम स्वामी ने उठाया। स्वामी ने इस मामले में कहा था कि ब्रिटेन स्थित बैकॉप्स के वार्षिक रिटर्न में राहुल को एक ब्रिटिश नागरिक घोषित किया गया है। राहुल को इस कंपनी से जोड़ा जा रहा है। कांग्रेस नेता ने बाद में इसे ‘अनजाने में हुई गलती’ और ‘लिखने में हुई गलती’ बताया था।

मीडिया में इस मामले को उठाने के साथ हीं स्वामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह कहते हुए पत्र लिखा था कि कांग्रेस नेता की नागरिकता समाप्त कर दी जाए। उन्होंने पत्र में कहा था कि गांधी ने लंदन में एक निजी कंपनी चलाने के लिए खुद को 2003-2009 की अवधि में ब्रिटिश नागरिक घोषित किया है। पत्र में कहा गया था, “कंपनी का नाम बैकॉप्स लिमिटेड है और इस कंपनी के निदेशक और सचिव मौजूदा लोकसभा सदस्य राहुल गांधी हैं।”

 

 

 

‘PUB-G’ नहीं गौतम गंभीर ने केजरीवाल को दिया साढ़े चार साल बनाम साढ़े चार दिन वाला चैलेंज