‘कांग्रेस अध्यक्ष और उनकी मां बेल पर हैं फिर भी कांग्रेसी नेता नैतिकता का पाठ पढ़ा रहे हैं’ : सूर्या

28 साल के तेजस्वी सूर्या पेशे से वकील हैं, और भाजपा में सबसे कम उम्र के सांसद हैं। भाजपा आलाकमान ने उन्हें बेंगलुरु साउथ संसदीय सीट से मैदान में उतारा था, जहां से वो जीतकर लोकसभा पहुंचे हैं।

Written by Newsroom Staff June 25, 2019 4:05 pm

नई दिल्ली। मंगलवार को लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव के समर्थन पर बोलते हुए बेंगलुरु दक्षिण लोकसभा सीट से भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या ने कहा, “मैं बेहद अभिभूत हूं कि पीएम मोदी ने मुझे लोकतंत्र के इस मंदिर में आने का मौका दिया।”

उन्होंने कहा कि “मेरे जैसे युवा के लिए ये गर्व की बात है कि जिस संसद से सरदार बल्लभ भाई पटेल, भीमराव अम्बेडकर, अटल जी जैसे महान नेताओं ने देश का प्रतिनिधित्व किया, वहां मुझे आने का मौका मिला और यह सब पीएम नरेंद्र मोदी की बदौलत मुमकिन हो सका।”

सूर्या ने कहा कि “मेरे जैसा सामान्य कार्यकर्ता जो कि एक आम परिवार से आता है, उसका सांसद चुना जाना ही बीजेपी की खूबसूरती है।”

भारत के लोकतंत्र की खूबी पर बोलते हुए तेजस्वी सूर्या ने कहा कि “एक चायवाला देश का दूसरी बार प्रधानमंत्री बना है और यह भारत के लोकतंत्र की मजबूती की पहचान है।” उन्होंने कहा कि “चुनाव के दौरान पीएम मोदी पर निजी हमले किए गए और आज भी वह जारी हैं।”

लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद विपक्ष द्वारा ईवीएम पर सवाल उठाने पर सूर्या ने कहा कि, “विपक्ष चुनाव में हार के बाद ईवीएम को दोषी ठहरा रहा है जबकि वीवीपैट मिलान बिल्कुल सही पाए गए हैं।” कांंग्रेस की मानसिकता पर बोलते हुए सूर्या ने कहा कि “कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और उनकी मां बेल पर हैं और गुलाम नबी आजाद जी बीजेपी को नैतिकता का पाठ पढ़ा रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि “न्यू इंडिया में लोग अपने नाम से पहचाने जा रहे हैं उनके नाम के पीछे क्या लगा है, यही उनकी पहचान नहीं बताता और इसी से कांग्रेस पार्टी को दिक्कत है।”

पहली बार लोकसभा सांसद बने तेजस्वी सूर्या ने देखिए और क्या कहा

तेजस्वी सूर्या के बारे में थोड़ी और जानकारी

28 साल के तेजस्वी सूर्या पेशे से वकील हैं, और भाजपा में सबसे कम उम्र के सांसद हैं। भाजपा आलाकमान ने उन्हें बेंगलुरु साउथ संसदीय सीट से मैदान में उतारा था, जहां से वो जीतकर लोकसभा पहुंचे हैं। इससे पहले इसी सीट से बीजेपी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री एचएन अनंत कुमार छह बार से सांसद रहे थे, जिनका पिछले वर्ष देहांत हो गया।

सूर्या राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में रहे और इस समय बीजेपी के युवा मोर्चे के जनरल सेक्रेटरी हैं। इनके परिवार में राजनीति के लिहाज से देखें तो सूर्या के चाचा रवि सुब्रमान्या बसावनागुड़ी विधानसभा सीट से बीजेपी एमएलए हैं।