दिल्ली चुनाव में बीजेपी के हारते ही गदगद हुई शिवसेना, कहा स्वार्थियों का पराभव

शिवसेना ने दिल्ली विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हार पर जमकर खुशी ज़ाहिर की है। शिवसेना ने सामना में लिखा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में ‘आप’ की जीत में आश्चर्यजनक जैसा कुछ भी नहीं।

Avatar Written by: February 12, 2020 1:03 pm

नई दिल्ली। शिवसेना ने दिल्ली विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हार पर जमकर खुशी ज़ाहिर की है। शिवसेना ने सामना में लिखा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में ‘आप’ की जीत में आश्चर्यजनक जैसा कुछ भी नहीं। प्रधानमंत्री मोदी से ज्यादा दिल्ली चुनाव गृहमंत्री अमित शाह के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ था।

Arvind Kejriwal

देश की राजधानी में ‘आप’ का झंडा लहराया और आर्थिक राजधानी में शिवसेना का मुख्यमंत्री विराजमान है। यह तीर कलेजे को चीरनेवाला है। लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत के बाद भाजपा एक के बाद एक राज्यों को गवां रही है।

शिवसेना ने लोकसभा चुनावों में मोदी की जीत की वजह भी बताई है। सामना में लिखा है कि चार महीने पहले दिल्ली में सभी सात सीटों पर भाजपा की जो जीत हुई वो प्रधानमंत्री मोदी का करिश्मा था। मोदी या भाजपा के सामने किसी बड़ी पार्टी या बड़े नेता की चुनौती नहीं थी। इस कारण से भाजपा की एकतरफा जीत हुई। लेकिन विधानसभा चुनाव में एक तरफ राज्य में मजबूत नेतृत्व था और उसके सामने मोदी-शाह की ‘हवाबाज’ नीति असफल हो गई, ऐसी तस्वीर सामने आई।

Arvind Kejriwal

सामना के इस लेख में यह कहते हुए केजरीवाल की जमकर तारीफ की गई है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे देखने पर ये बात सामने आती है कि अकेले केजरीवाल पूरी केंद्र सरकार और शक्तिशाली भाजपा पर भारी पड़े हैं। केजरीवाल को हराने के लिए भाजपा ने देशभर से ढाई सौ सांसद, दो चार सौ विधायक, मुख्यमंत्री और अन्य राज्यों के मंत्रियों सहित पूरे केंद्रीय मंत्रिमंडल को मैदान में उतार दिया था। लेकिन इस फौज को आखिरकार दिल्ली के मैदान में पराजय का मुंह देखना पड़ा।

Modi cabinet amit shah pm modi

शिवसेना ने इशारों इशारों में ‘मोदी-शाह’ को स्वार्थी बता दिया। सामना में लिखा गया कि भाजपा हिंदू-मुसलमान और पाकिस्तान आदि चिल्लाते रह गयी। ‘केजरीवाल एक नंबर के आतंकवादी हैं’, ऐसा भाजपा ने घोषित कर दिया। लेकिन आखिरकार जीत केजरीवाल के ‘आप’ की हुई। ‘स्वार्थियों’ का पराभव हुआ। केजरीवाल की झाड़ू ने सबको साफ कर दिया। केजरीवाल का अभिनंदन!