फडणवीस के बयान पर उद्धव ठाकरे का पलटवार, कहा- शिवसेना झूठ बोलने वाली पार्टी नहीं

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पदों और मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 पर सहमति बनी थी। मुझे इसपर सफाई देने की जरूरत नहीं। शिवसेना का सीएम होने के सपने को पूरा करने के लिए मुझे किसी की मदद की जरूरत नहीं है।

Written by: November 8, 2019 7:04 pm

नई दिल्ली। शुक्रवार को महाराष्ट्र में एक नया सियासी घमासान दिखा जब देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि, शिवसेना के साथ 50-50 को लेकर कोई बात नहीं हुई थी। इसके साथ ही फडणवीस ने कहा कि, सीएम पद को लेकर ढाई-ढाई साल का फॉर्मूला शिवसेना का सिर्फ बहाना है। अब प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पलटवार किया है।

uddhav and aditya thackrey

देवेंद्र फडणवीस के बाद उद्धव ठाकरे ने शिवसेना भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं बाला साहेब की तरह सच के साथ खड़ा हूं। मुझ पर झूठ बोलने के  आरोप लग रहे हैं। अमित शाह बात करने मुंबई आए थे। मैंने सीएम पद को लेकर अमित शाह से स्पष्ट रूप से बात की थी। सबको पता है झूठ कौन बोल रहा है।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पदों और मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 पर सहमति बनी थी। मुझे इसपर सफाई देने की जरूरत नहीं। शिवसेना का सीएम होने के सपने को पूरा करने के लिए मुझे किसी की मदद की जरूरत नहीं है। हमारे काम बीजेपी जैसा नहीं। अमित शाह ने कहा था कि जिनकी ज्यादा सीट उनका सीएम। मैंने कहा कि मैं यह नहीं मानूंगा। देवेंद्र फडणवीस ने अमित शाह का हवाला देकर 2.5 साल के सीएम की बात होने से इनकार किया, जनता को पता है कौन झूठ बोल रहा।

uddhav thackrey

उद्धव ठाकरे ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस से ऐसे बयान की उम्मीद नहीं थी। बीजेपी भूल गई कि दुष्यंत चौटाल ने उनके लिए क्या कहा था। शिवसेना झूठ बोलने वालों की पार्टी नहीं है। मैंने कभी पीएम मोदी पर आरोप नहीं लगाए। मैं बीजेपी वाला नहीं हूं। झूठ नहीं बोलता। मैं झूठ बोलने वालों से बात नहीं करता। मैंने कभी दुष्यंत चौटाला जैसी भाषा का प्रयोग नहीं किया।

उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि, मैं दुष्यंत चौटाला की तरह बात नहीं करता जैसे उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा था। गंगा को साफ करते हुए उनका दिमाग गंदा हो गया है। मैं RSS का सम्मान करता हूं। आरएसएस को फिर से सोचना चाहिए कि कैसा हिन्दुत्व चाहिए। हमने देखा है कि बीजेपी ने मणिपुर और गोवा में किस प्रकार से सरकार बनाई है। हमने उन्हीं से सीखा है। लेकिन हमने कभी झूठ बोलना नहीं सीखा। मुझे अगर बीजेपी झूठा बोलेगी तो बर्दाश्त नहीं करूंगा, एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत नहीं हुई। हमने कभी भी चर्चा बंद नहीं की थी, जब मुझे पता चला कि बीजेपी समझौते से हट रही है, तब हमने बातचीत बंद की। हमने हमेशा अपना रुख साफ किया, अब वक्त है कि बीजेपी सच बोले।

shivsena

उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैंने भी अटल-आडवाणीजी की कभी आलोचना नहीं की है। अभी मैंने नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी नहीं की है, जब आलोचना की भी थी तो पॉलिसी की आलोचना थी, निजी आलोचना नहीं की। मैंने उनका (बीजेपी) का समर्थन इसलिए किया था क्योंकि देवेंद्र फडणवीस मेरे अच्छे मित्र हैं। क्या फैसला हुआ था इस बारे में मैं शिवसैनिकों से झूठ नहीं बोल सकता हूं। महाराष्ट्र की जनता को शिवसेना पर भरोसा है।