कभी बायोडाटा लेकर मेरे घर आए थे कोविंद, चुप रहने का मिला इनाम- उदित राज

कांग्रेस में शामिल होते ही उदित राज ने भारतीय जनता पार्टी पर बड़े हमले करने शुरू कर दिए हैं। दिल्ली में कांग्रेस नेताओं के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उदित राज ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से जुड़ा एक पुराना किस्सा सुनाते हुए कहा कि बीजेपी चुप रहने वाले दलित नेताओं को पसंद करती है और रामनाथ कोविंद को इसी का इनाम मिला है।

Written by: April 24, 2019 5:39 pm

नई दिल्ली। कांग्रेस में शामिल होते ही उदित राज ने भारतीय जनता पार्टी पर बड़े हमले करने शुरू कर दिए हैं। दिल्ली में कांग्रेस नेताओं के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उदित राज ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से जुड़ा एक पुराना किस्सा सुनाते हुए कहा कि बीजेपी चुप रहने वाले दलित नेताओं को पसंद करती है और रामनाथ कोविंद को इसी का इनाम मिला है।

Udit Raj & Rahul Gandhi

अपना टिकट कटने पर सवाल उठाते हुए उदित राज ने कहा कि बीजेपी टिकट वितरण पर इंटरनल सर्वे का हवाला देती है। पार्टी के इस इंटरनल सर्वे में उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट पर जीत की रिपोर्ट सामने आई, इसके बावजूद मेरा टिकट काटा गया। उदित राज ने आरोप लगाया कि मेरा टिकट इसलिए काटा गया है क्योंकि 2 अप्रैल 2018 को जब दलितों ने कानून कमजोर करने वाले मोदी सरकार के कदम का विरोध करते हुए भारत बंद बुलाया तो मैंने उसका समर्थन किया। उदित राज ने कहा कि अगर मैं ऐसा न करता और चुप रहता तो मेरा टिकट नहीं काटा जाता।

ramnath kovind

उदित राज ने दावा किया कि बीजेपी व आरएसएस में खामोश रहने पर इनाम मिलता है। उन्होंने रामनाथ कोविंद का उदाहरण देते हुए कहा कि 20 मई 2014 को रामनाथ कोविंद अपना बायोडाटा लेकर मेरे पास आए, विवेक सोनकर इसके चश्मदीद हैं। कोविंद जी ने मुझसे कहा कि भाईसाहब मेरा भी कुछ कराइए। क्योंकि बीजेपी ने रामनाथ कोविंद को 2014 में टिकट के लायक भी नहीं समझा था जबकि वो टिकट चाह रहे थे, लेकिन वो चुप रहे और उसका इनाम आपने देख लिया’

उदित राज ने कहा कि अगर मैं भी चुप रहता तो बीजेपी रामनाथ कोविंद की तरह ही मुझे भी कोई इनाम दे देती। उदित राज ने यहां तक कहा कि अगर मैं शांति से रहता तो शायद मुझे भी कभी पीएम बना देते, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया और दलितों के मुद्दे पर आवाज उठाता रहा। यही वजह रही कि बीजेपी ने मेरा टिकट काट दिया।