उन्नाव: रेप कांड पीड़िता के चाचा को पैरोल देने के लिए धरने पर बैठा परिवार

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह ने कहा कि दुष्कर्म पीड़िता को तीन निजी सुरक्षा कर्मी दिए गए थे लेकिन कार में जगह नहीं होने के कारण पीड़िता ने सुरक्षा कर्मियों वहीं रुकने के लिए कहा था।

Written by: July 30, 2019 9:41 am

नई दिल्ली। उन्नाव रेप पीड़िता का रो़ड एक्सीडेंट होने के बाद से इस मामले में विरोध के सुर भड़क गए हैं। परिजन पीड़िता के चाचा को पैरोल देने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए हैं। बता दें कि एक्सीडेंट में पीड़िता की चाची और मौसी की मृत्यु हो गई थी। जिसके बाद से रेप पीड़िता के चाचा को पैरोल देने की मांग की जा रही है।

Unnao accident

बता दें कि चाचा रायबरेली की जेल में बंद है और उन्हीं से मिलने के लिए पीड़िता और उनके रिश्तेदार रायबरेली जेल जा रहे थे। चाची की मृत्यु के बाद अब परिजनों ने उनका अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। उनकी मांग है कि जब तक पीड़िता के चाचा को पैरोल नहीं दिया जाता तबतक मृतक का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। इस मांग को लेकर परिजन लखनऊ के केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर के बाहर धरने पर बैठ गए हैं।

Unnao accident

दरअसल 28 जुलाई को रोड एक्सीडेंट में पीड़िता की चाची की मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम के बाद शव को रखकर परिजनों का विरोध प्रदर्शन जारी है। इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई थी और पीड़िता और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पीड़िता और उसके वकील महेंद्र सिंह रविवार को दुर्घटना के बाद से लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं।

unnao 1

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह ने कहा कि दुष्कर्म पीड़िता को तीन निजी सुरक्षा कर्मी दिए गए थे लेकिन कार में जगह नहीं होने के कारण पीड़िता ने सुरक्षा कर्मियों वहीं रुकने के लिए कहा था। उन्होंने कहा कि शुरुआती जांच में यह एक दुर्घटना का मामला लगता है क्योंकि ट्रक तेज रफ्तार से आ रहा था। उन्होंने कहा कि प्रत्यक्षदर्शियों के बयान भी दर्ज कर लिए गए हैं। इसी बीच देखा गया कि ट्रक की नंबर प्लेट पर काला रंग पुता हुआ था जो मामले में बड़ी साजिश का इशारा करते हैं।