आधीरात सीएम योगी ने मौके पर जाकर लिया विकास कार्यों का जायजा

Avatar Written by: October 29, 2018 8:30 am

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार-सोमवार की देररात वाराणसी में विभिन्‍न विकास कार्यों का जमीनी दौरा कर जायजा लिया है। खास बात ये रही कि मुख्‍यमंत्री एक दिन में 100 किलोमीटर से भी ज्‍यादा का जमीनी निरीक्षण करने वाले प्रदेश के पहले मुख्‍यमंत्री भी बन गये हैं।

UP CM Yogi Adityanath  रात में निकला काफिला

रात साढे नौ बजे के बाद मुख्‍यमंत्री का काफिला सर्किट हाउस से बनारस के तूफानी दौरे पर निकला। आधी रात को मुख्‍यमंत्री का काफिला हरहुआ रिंग रोड से लेकर रामनगर स्‍थित राल्‍हूपुर बंदरगाह तक दौड़ता रहा। इस दौरान मुख्‍यमंत्री के साथ राज्‍यमंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी सहित जिले के आलधिकारी मौजूद रहे।

UP CM Yogi Adityanath

मुख्‍यमंत्री ने रिंग रोड के कार्यों का जायजा लिया, उन्‍होंने शाही नाले को लेकर हो रहे कार्यों के बारे में अफसरों से पूछा, श्रीकाशी विश्‍वनाथ कॉरीडोर का जायजा लिया और राल्‍हूपुर के बंदरगाह का भी सूक्ष्‍मता से निरीक्षण किया। वहीं राल्‍हूपुर में मीडिया से बात करते हुए सीएम ने इस बात को भी स्‍पष्‍ट किया कि लोगों को मुख्‍यमंत्री के दौरे से परेशानी ना हो इसलिए निरीक्षण के लिये वे रात्रि का वक्‍त ही चुनते हैं, जिससे इत्‍मिनान के साथ एक एक कार्य का निरीक्षण किया जा सके।

UP CM Yogi Adityanath

सीएम योगी ने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा देश का पहला मल्टी मॉडल हब इनलैंड वॉटर-वे के काशी को दिया जा रहा है। यह अपने आप में एक अद्भुत कार्य है। सैकड़ों वर्षों से जिस कार्य की तलाश थी, जिस बात को लेकर लोग उत्सुक थे कि क्या जल मार्ग से भी हम यातायात की सुविधा को या माल परिवहन की व्यवस्था को और सुगम बना सकते हैं, वो अब पूरी होने जा रही है। प्रधानमंत्री मोदी की दूरदृष्टि के कारण यह काशी में ऐसा होने जा रहा है। यानी काशी अब केवल सांस्कृतिक और आध्यात्मिक नगरी ही नहीं होगी, बल्कि हर प्रकार के यातायात के लिए भी होगी।

UP CM Yogi Adityanath

उन्होंने कहा कि पहले काशी में आपने फोर लेन, सिक्स लेन, एयरप्लेन के मार्गों का निर्माण हो चुका है और वो साकार रूप ले चुके हैं और जलमार्ग की बात करें तो अब देश के पहले अत्याधुनिक जलमार्ग की सुविधा काशी से शुरू हो रही है। उन्होंने कहा कि हल्दिया (पश्चिम बंगाल) से काशी तक 14 किलोमीटर की यह दूरी सड़क मार्ग, रेल मार्ग और वायु मार्ग की तुलना में कम दाम पर यह सुविधा यहां प्राप्त होगी, इसे नवंबर के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।