उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार को योगी सरकार देगी 25 लाख रुपये और घर

मुआवजे की धनराशि(चेक) उन्नाव के जिला अधिकारी परिवार वालों से मिलकर देंगे। बता दें कि उन्नाव गैंगरेप पीड़िता को गुरुवार को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी, जिसमें पीड़िता 95 फीसदी तक झुलस गई थी।

Written by: December 7, 2019 6:58 pm

नई दिल्ली। उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार वालों के योगी सरकार ने मुआवजा देने का ऐलान किया है। पीड़िता के परिवार को 25 लाख रुपये की मदद योगी सरकार देगी। इतना ही नहीं राज्य सरकार की तरफ से परिवार को पीएम आवास योजना के तहत घर देने का भी ऐलान किया गया है।

cm yogi adityanath

मुआवजे की धनराशि(चेक) उन्नाव के जिला अधिकारी परिवार वालों से मिलकर देंगे। बता दें कि गुरुवार को उन्नाव गैंगरेप पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी, जिसमें पीड़िता 95 फीसदी तक झुलस गई थी। इसके बाद पीड़िता को लखनऊ के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां से उसे एयरलिफ्ट करके दिल्ली लाया गया था।

safdarjung burn unit

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसका इलाज चल रहा था कि शुक्रवार की रात 11.45 पर उसकी मृत्यु हो गई। मौत के बाद उन्नाव से लखनऊ और दिल्ली तक जबरदस्त हंगामा मच गया। पीड़िता की मौत के बाद शनिवार को पूरे दिन उत्तर प्रदेश में प्रदर्शन देखने को मिला।

akhilesh yadav

जहां यूपी के पूर्व सीएम व समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव विधानसभा के बाहर सांकेतिक धरने पर बैठ गए तो वहीं कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी पीड़िता के परिवार से मिलने उन्नाव पहुंची। प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी और प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह भी नजर आए। प्रियंका गांधी परिवार से मिलने उनके घर के अंदर भी गई। परिजनों से अकेले में मुलाकात कर यह जानना चाहा कि परिवार अब क्या चाहता है।

priyanka gandhi

प्रियंका गांधी ने शनिवार को एक ट्वीट में कहा, “मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि उन्नाव पीड़िता के परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत दें।” उन्होंने कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की और कहा, “यह हम सबकी नाकामी है कि हम उसे न्याय नहीं दे पाए। सामाजिक तौर पर हम सब दोषी हैं, लेकिन यह उत्तर प्रदेश में खोखली हो चुकी कानून-व्यवस्था को भी दिखाता है।” प्रियंका ने सवाल किया कि राज्य में महिलाओं पर अत्याचार क्यों बढ़ रहे हैं और उन्नाव में पिछली घटना को देखते हुए पीड़िता को कोई सुरक्षा क्यों नहीं दी गई।