योगी सरकार का बड़ा फैसला, 218 फास्ट ट्रैक कोर्ट को मिली मंजूरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसला लिया गया है कि, 218 नए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनेंगे। इनमें से 144 कोर्ट में सिर्फ रेप से जुड़े मामले की सुनवाई होगी और बाकी बचे 74 कोर्ट में पॉक्सो एक्ट वाले केस सुने जाएंगे।

Written by: December 9, 2019 12:41 pm

नई दिल्ली। महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार और बलात्कार जैसी घटनाओं का तुरंत निपटारे को लेकर यूपी कैबिनेट की मीटिंग में बड़ा फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसला लिया गया है कि, 218 नए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनेंगे। इनमें से 144 कोर्ट में सिर्फ रेप से जुड़े मामले की सुनवाई होगी और बाकी बचे 74 कोर्ट में पॉक्सो एक्ट वाले केस सुने जाएंगे।

up cabinet

मीटिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में उत्तर प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक बताया कि प्रदेश में 42389 पोस्को और 25749 बलात्कार के मामले अभी पेंडिंग है। जिसके चलते यूपी सरकार ने ये बड़ा फैसला लिया है। ब्रजेश पाठक ने बताया कि इसके जजों की भर्ती जल्द शुरू की जाएगी। इसके अलावा हर कोर्ट का खर्च 75 लाख रुपये आएगा।

cm yogi adityanath

इसके अलावा कैबिनेट बैठक ने 14 शहरों में इलेक्ट्रिक एसी बसे चलाने का प्रस्ताव पास किया है। इसके अंतरगत लखनऊ, मेरठ, प्रयागराज, गाजियाबाद, कानपुर, आगरा, वाराणसी, मुरादाबाद, बरेली, अलीगढ़, झांसी, बरेली, मथुरा, गोरखपुर और शाहजहांपुर में इलेक्ट्रिक एसी बसे चलेंगी।

Yogi PC

यूपी सरकार ने तीन नगर निगम सीमा विस्तार पर भी मुहर लगा दी है। इसमें अयोध्या और गोरखपुर और फिरोजाबाद का विस्तार होगा। अयोध्या नगर निगम सीमा क्षेत्र में 41 राजस्व गांवों को शामिल करने का फैसला किया है। वहीं, गोरखपुर और फिरोजाबाद नगर निगम सीमा क्षेत्र में क्रमाश: 41 और एक कॉलोनी को शामिल किया जा रहा है।

उन्नाव कांड से हिला पूरा प्रदेश

Unnao Case

हैदराबाद जघन्य हत्याकांड के बाद उन्नाव की घटना ने सभी को सकते में ला दिया था। एक नवविवाहिता ने दो आरोपियों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। इस मामले में आरोपी जेल से जमानत से छूटकर आए थे। आरोपियों ने साथियों के साथ मिलकर पीड़िता को जिंदा जला दिया था। इस घटना में वह 90 फीसदी से ज्यादा जल गई थी। दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई थी। इसके बाद से ही आरोपियों को फांसी दिए जाने की मांग की जा रही है।