योगी ने अखिलेश से खाली करवा दिया लोहिया ट्रस्ट का बंगला, अवैध कब्जे के खिलाफ बड़ी कार्यवाही

उत्तर प्रदेश की योदी आदित्यनाथ सरकार ने समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान के बाद अब मुलायम परिवार को बड़ा झटका दिया है और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी सरकार ने मुलायम परिवार से लोहिया ट्रस्ट बिल्डिंग खाली करवा लिया है।

Written by: September 14, 2019 1:44 pm

लखनऊ। यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने सख्ती दिखाते हुए अवैध कब्जों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी से लोहिया ट्रस्ट खाली करा लिया गया। यह लखनऊ के पॉश विक्रमादित्य मार्ग पर बना हुआ एक बड़ा बंगला है जिस पर समाजवादी पार्टी काबिज है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे बंगलों को खाली कराने का आदेश दिया था। मगर कई नोटिस के बाद भी सपा ने यह बंगला खाली नहीं किया।

yogi mulayam

समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने इस ट्रस्ट की नींव डाली थी। यह ट्रस्ट समाजवादी नेता राममनोहर लोहिया के विचारों को आगे बढ़ाने के नाम पर बनाया गया था। पर अखिलेश यादव ने इसे चुनावी तैयारी का वार रूम बना दिया। साल 2017 में अखिलेश सरकार ने 10 साल के लिए लोहिया ट्रस्ट को यह बंगला आवंटित किया था। सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव और शिवपाल सिंह यादव इस ट्रस्ट के मुख्य पदाधिकारी हैं, जबकि अखिलेश यादव व रामगोपाल यादव समेत समाजवादी पार्टी के कई प्रमुख नेता इसके सदस्य हैं।

mulayam

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य संपति विभाग ने यूपी के छह पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी बंगला खाली करने के आदेश जारी किए थे। सभी को 15 दिन के भीतर बंगला खाली करने का नोटिस भी भेजा गया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य संपत्ति विभाग ने लोहिया ट्रस्ट को पिछले साल अक्टूबर में बंगला खाली करने का नोटिस जारी किया था।

इसके बावजूद भी बंगला खाली नहीं किया गया। इस पर लोहिया ट्रस्ट को कई नोटिस भेजे गए। मगर उसने समय पर खाली करने की कार्यवाही नहीं की।

yogi

बंगला खाली करने के लिए लोहिया ट्रस्ट ने राज्य संपत्ति विभाग से वक्त मांगा था। आवंटन रद्द होने के बाद ट्रस्ट 70 हजार रुपये प्रतिमाह बंगले का किराया दे रहा था। यह किराया बाजार दर से वसूला जा रहा था। लोहिया ट्रस्ट के लिए बंगले का आवंटन एक जनवरी 2017 को नए एक्ट से किया गया था। आवंटन 10 साल के लिए किया गया था जबकि संशोधित एक्ट के मुताबिक बंगला पांच साल के लिए आवंटित किया जा सकता है।