योगेंद्र यादव के परिवारवालों ने नीरव मोदी से खरीदे गहने, घर से 22 लाख कैश बरामद

  • 864
  •  
  •  
  •  
  •  
    864
    Shares

नई दिल्ली। स्वराज पार्टी के संस्थापक योगेंद्र यादव के परिवार से जुड़े अस्पताल पर आयकर विभाग ने छापेमारी के बाद करीब 22 लाख रुपये की नगदी बरामद की हैं। साथ ही पीएनबी घोटालेबाज नीरव मोदी से ज्वेलरी खरीदने के सुबूत भी मिलने की बात कही है।Yogendra Yadav

बता दें बुधवार 11 जुलाई को आयकर विभाग ने योगेंद्र यादव के परिवार से जुड़े कुल तीन ठिकानों पर छापेमारी की थी। दावा है कि गहने की खरीदारी के लिए योगेंद्र के परिवार ने नकद भुगतान किया।income tax

आयकर विभाग के दावों को लेकर योगेंद्र यादव का कहना है कि अस्पताल में छापे के दौरान जो कुछ भी मिला है, उसका स्पष्टीकरण अस्पताल प्रशासन देगा। मैंने इसलिए आवाज उठाई, क्योंकि उन्हें मेरे कार्यों के लिए दंडित किया जा रहा।Yogendra Yadav

यादव ने कहा, आयकर विभाग का छापा 11 बजे दिन में शुरू हुआ। कलावती हॉस्पीटल कम नर्सिंग होम उनकी बड़ी बहन नीलम यादव चलाती हैं तो कमला नर्सिंग होम दूसरी बहन पूनम। पूनम के पति नरेंद्र यादव बाल रोग विशेषज्ञ हैं।

वही नीलम का कहना है कि-कृपया इन सब चीजों को राजनीति से न जोड़ें। मेरे पति और मैं राजनीति में नहीं हूं। आइटी डिपार्टमेंट जो कर रहा है, वह उसकी ड्यूटी है। हम इस छापेमारी पर कुछ टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। छापे के दौरान आभूषणों की बरामदगी के सवाल पर उन्होंने कहा-क्या नीरव मोदी के आभूषण बाजार में नहीं बिक रहे थे।

nirav modi
 

बता दें कि छापा नीलम यादव के हॉस्पीटल ही नहीं घर पर भी पड़ा। नीलम परिवार के साथ पहले तल पर रहतीं हैं, जबकि हास्पिटल ग्राउंड फ्लोर पर संचालित है।उधर कमला नर्सिंग होम के मैनेजर जीके चौहान ने कहा कि छापे के कारण तीस से ज्यादा मरीज वापस चले गए। नर्सिंग होम के स्टाफ के मुताबिक छापे के दौरान सुरक्षाकर्मियों ने ओपीडी, लैब, मेडिकल स्टोर आदि बंद करने को कहा था।

45 बेड का कमला नर्सिंग होम में बच्चों का इलाज होता है। इस छापेमारी को लेकर योगेंद्र यादव ने कहा कि उन्होंने किसानों और शराबबंदी के लिए मुहिम चला रखी है। जिससे परेशान होकर बीजेपी सरकार आइटी के छापों के जरिए उनके परिवार को निशाना बना रही है।

Facebook Comments