अगर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज ना आया तो अमेरिका की तरफ से इस बार…

Avatar Written by: March 6, 2018 3:51 pm

नई दिल्ली। अमेरिका के द्वारा प्रतिबंध के जरिए लगातार दबाव बनाने की कोशिश का पाकिस्तान पर कोई असर होता नजर नहीं आ रहा है। पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को समर्थन देने के तमाम दावे करने के बाद भी अमेरिका की बातों को वह अनसुना कर रहा है। ऐसे में अमेरिका की तरफ से पाकिस्तान को लेकर एक बार फिर प्रतिक्रिया सामने आई है। जिसमें अमेरिका ने साफ तौर पर पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि हमारी तरफ से इतनी बार प्रतिबंध लगाने के बाद भी आतंकवाद के समर्थन को लेकर पाकिस्तान का रवैया नहीं बदल रहा है।

Donald Trump Attack terrorism

अमेरिका की ओर से पिछले कुछ दिनों से पाकिस्‍तान के प्रति सख्‍त रवैया अपनाया जा रहा है लेकिन फिर भी वाशिंगटन की तरफ से कहा जा रहा है कि इस्‍लामाबाद के रवैये में कोई खास बदलाव नहीं आया है। दो माह पहले इस्‍लामाबाद को दिए जाने वाले दो बिलियन डॉलर के सुरक्षा सहयोग को अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने रोक दिया था। लेकिन पाकिस्तान फिर भी आतंकियों के समर्थन में खड़ा है।

donald trump with pakistan PM

अमेरिका का कहना है कि इसके बाद भी पाक में कोई ‘निर्णायक और सतत’ बदलाव नहीं आया है। दक्षिण और मध्य एशिया की प्रिंसिपल डिप्‍टी असिस्‍टेंट एलिस वेल्स ने कहा, ‘हमने पाकिस्तान के रवैये में अब तक कोई निर्णायक और सतत बदलाव नहीं देखा है, लेकिन हम पाकिस्तान से उन मामलों पर संपर्क में रहेंगे जिनमें हमारे अनुसार वह तालिबान के समीकरण बदलने में मददगार हो सकता है।’

Donald trump on white house America

अफगानिस्तान में हाल ही में संपन्न हुए काबुल सम्‍मेलन के बाद संवाददाताओं से बातचीत में वेल्स ने कहा कि अफगानिस्तान में शांतिबहाली की प्रक्रिया में पाकिस्तान की भूमिका बहुत महत्‍वपूर्ण है। अफगानिस्तान-पाकिस्तान संबंधों को काफी महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिकी इन द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने के प्रयासों का समर्थन करता है।

pakistan pm abbasi in Lahore, karachi, islamabad

ऐसे में यह स्पष्ट हो चुका है कि वॉशिंगटन किसी भी हाल में अब इस्लामाबाद को पहले की तरह माफ करने के मूड में नहीं है। ऐसे में अमेरिका का इशारा साफ है कि अगर इस बार भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सकती है। भले ही अमेरिका और पाकिस्तान अपने रिश्ते सुधारने में जुटे हों लेकिन वॉशिंगटन लगातार पाकिस्तान पर नजर बनाए हुए है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost