अटल बिहारी वाजपेयीः जिन्होंने विपक्षी नेताओं के दिलों पर भी किया राज

Written by: August 17, 2018 6:04 pm

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आज अंतिम संस्कार हो गया। वह 93 साल के थे। अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वाजपेयी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। 15 अगस्‍त को उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया। 16 अगस्त को शाम 5.05 मिनट में उनका निधन हो गया। उनके निधन के बाद देश में शोक की लहर दौड़ गई। भाजपा और संघ के अलावा विपक्ष के भी तमाम नेता अटल जी के निधन पर शोक व्यक्त कर रहे हैं। दुःख की इस घड़ी में अटल जी के व्यक्तित्व की ऊंचाई का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि भाजपा हीं नहीं सभी पार्टी के नेता इस मौके पर अपनी संवेदना व्यक्त करते नजर आए। यह इस बात का सूचक है कि अटल जी ने विपक्षी नेताओं के दिलों पर भी हमेशा राज किया।Atal Bihari Vajpayee

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनके निधन पर कहा, ‘आज भारत ने एक महान बेटा खो दिया। पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी, लाखों लोगों उनसे प्यार करते थे और सम्मान करते थे। अपने परिवार और उसके सभी प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना। हमें उनकी बहुत याद आएगी।’


कांग्रेस नेता शशि थरूर ने शोक जताते हुए ट्वीट किया, वाजपेयी जी महान ज्ञान, सहिष्णुता और करुणामयी इंसान थे। उन्होंने भाजपा को राष्ट्रीय पार्टी के तौर पर पहली जीत दिलाई और केंद्र में सरकार चलाकर पार्टी की साख बढ़ाई। उन्हें बहुत सी चीजों के लिए याद रखा जाएगा लेकिन भारत और पाकिस्तान के बीच दशकों से चली आ रही शत्रुता को खत्म करने की दिशा में उनके प्रयास हमेशा याद रखे जाएंगे।


इसके आगे चिदंबरम लिखते हैं कि ये कोई बात नहीं कि वाजपेयी जी के बहुत दोस्त थे, लेकिन अहम है कि उनका कोई दुश्मन न था।


जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दल्ला ने कहा, ‘वाजपेयी साहिब अब नहीं रहे। और मैं उनके निधन को व्यक्तिगत नुकसान की तरह महसूस कर रहा हूं। अब्दुल्ला ने आगे लिखा, “वाजपेयी जी, आप के साथ यात्रा करने और आपसे से सीखने के अवसरों के लिए धन्यवाद, आपने मुझ पर जो भरोसा दिखाया और उसके लिए आपको हमेशा याद रखूंगा।’


सपा नेता मुलायम सिंह यादव ने कहा कि यह देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है, बहुत वरिष्ठ नेता होने के बावजूद वो एक साधारण आदमी थे। उनमें अहं का जरा सा भी भाव नहीं था। मौजूदा नेताओं को उनसे बहुत कुछ सीखने की जरूरत है।


पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने निधन पर शोक जताते हुए कहा कि भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के निधन की ख़बर सुनकर दुखी हूं। वे एक उत्कृष्ट वक्ता, एक प्रभावशाली कवि, एक असाधारण नेता, एक उत्कृष्ट सांसद और एक महान प्रधानमंत्री रहे।


ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि भारत ने अपना सबसे बड़ा नेता आज खो दिया। मैं उनके निधन से बहुत दुखी हूं। उन्हें भारत के लोगों का प्यार मिला। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।


आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव ने कहा, ‘भारतीय राजनीति में एक युग का अंत। वाजपेयी जी के निधन से मैनें एक मित्र और अभिभावक खो दिया हैं।वो उस राजनीतिक धारा के आखिरी स्तम्भ थे जहां परस्पर विरोधी राजनीतिक विचारधारा के लोग सहज और शालीन संवाद कर सकते थे।और हां! गर्व का विषय है कि अटलजी के नाम मे बिहारी भी था।आप बहुत याद आओगे।’


मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने पूर्व पीएम अटल बिहारी के निधन पर दुख व्यक्त किया। मार्क्सवादी नेता सीताराम येचुरी ने कहा हालांकि हमने राजनैतिक और वैचारिक तौर पर एक-दूसरे का कई बार जोरदार विरोध किया मगर फिर भी अटल जी के अच्छे स्वभाव और दूसरे राजनेताओं से उनकी संवाद की आदत ने उन्हें हमेशा खड़ा रखा। श्रद्धांजलि।


एनसीपी नेता शरद पवार ने कहा कि अटल बिहारी के निधन पर दुख है। हमने एक महान आत्मा, एक वाकपटु कवि, उत्कृष्टत व्याख्याता, एक उत्कृष्ट इंसान और भारत के सबसे महान संसद सदस्यों में से एक को आज खो दिया।


वहीं शरद यादव ने कहा कि वह एक महान इंसान थे जिनके गुणों को शब्दों में समझाया नहीं जा सकता। वह एक महान कवि, नेता, सांसद और एक सक्षम प्रशासक थे। उनकी सेवाओं को हमेशा याद किया जाएगा। ऐसे व्यक्ति शायद ही कभी पैदा हुए हैं और उनकी मृत्यु से देश ने एक महान राजनेता खो दिया है।