बड़ी खबर: भगोड़े नीरव मोदी पर मोदी सरकार की बड़ी जीत !

Avatar Written by: July 28, 2018 6:35 pm

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी सरकार लगातार नीरव मोदी जैसे भगोड़ों को देश में वापस लाने की कवायद में लगी हुई है। सरकार की तरफ से लगातार कई देशों से संपर्क साधा जा रहा है ताकि भगोड़ों का प्रत्यर्पण कराया जा सके। वहीं सरकार की तरफ से भगोड़ा कानून पास करा लिया गया है। ऐसे में सरकार इन भगोड़ों पर शिकंजा कसने में अब कोई कसर छोड़नेवाली नहीं है।Nirav Modi

इसी का नतीजा है कि भगोड़े नीरव मोदी को अमेरिका की एक अदालत ने तगड़ झटका दिया है। पंजाब नेशनल बैंक से जुड़े 13000 करोड़ के बड़े घोटाले में अमेरिका की एक बैंक ने भगोड़े नीरव मोदी को एक बड़ा झटका दिया है। इसके साथ ही ये फैसला पीएनबी के लिए बड़ी राहत की खबर लेकर आया है। न्यूयॉर्क की एक बैंकरप्सी कोर्ट ने नीरव मोदी की अमेरिका में किसी भी संपत्ति की बिक्री पर पंजाब नेशनल बैंक के दावे को मंजूर कर लिया है। इसके साथ ही कोर्ट ने नीरव मोदी और उसके साथियों को पूछताछ के लिए समन भी जारी किया है। बैंक के लिए ये फैसला एक बड़ी राहत लेकर आया है।

nirav modi

इससे पहले घोटाला कर भागे विजय माल्या को भी लंदन की कोर्ट ऐसा ही झटका दे चुकी है। मुंबई की कोर्ट ने पीएनबी से जुड़े घोटाले के मामलों में शुक्रवार को नीरव मोदी और अन्य के खिलाफ खुली अवधि का गैर जमानती वारंट जारी किया था। अब ये तय हो गया है कि कोर्ट के आदेश के बाद नीरव मोदी को कोर्ट में पेश होना होगा। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अगर वह कोर्ट में पेश होता है तो उससे फंड के परिवर्तन (डायवर्जन) और हेराफेरी से संबंधित सवाल पूछे जा सकते हैं।nirav modi

नीरव मोदी के अलावा उसके सहयोगियों मिहिर भंसाली, राखी भंसाली, अजय गांधी और कुणाल पटेल को समन जारी किया गया है। 26 फरवरी को कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने नीरव मोदी द्वारा शुरू की गई बैंकरप्सी की कार्रवाई के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की थी और पीएनबी को संपत्तियों की बिक्री में एक पार्टी बनाने की मांग की थी।

mehul choksi and nirav modi

अमेरिकी कोर्ट ने पीएनबी को उन व्यक्तियों द्वारा दस्तावेज भी पेश करने को कहा है जो अमेरिका में नीरव मोदी के देनदार हैं। नीरव मोदी का सहयोगी मिहिर भंसाली फायरस्टार में सीनियर पोजीशन पर काम कर चुका है। वह भी इस घोटाले में शामिल है। राखी भंसाली उसकी पत्नी है। सूत्रों के मुताबिक, चूंकि कोर्ट ने साक्ष्य के तौर पर नीरव मोदी की खुद की उपस्थिति का आदेश दिया है, इससे उसके ठिकाने के बारे में पता लगाने में मदद मिलेगी, जिससे बाद में उसके प्रत्यर्पण की कार्रवाई में तेजी लाई जा सकेगी।

Support Newsroompost
Support Newsroompost