सरकार करेगी सबसे बड़ा अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन, इन देशों के मंत्री होंगे शामिल

Avatar Written by: September 14, 2018 11:51 am

नई दिल्ली। भारत सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने यूनिसेफ के साथ मिलकर महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन के आयोजन की घोषणा की। इस सम्मेलन में 50 से अधिक देशों के मंत्री और नेता हिस्सा लेंगे। इस दौरान उन्हें भारत की प्रगति और दुनियाभर में सर्वश्रेष्ठ जल स्वच्छता के बारे में जानने का मौका मिलेगा।

cleanness

बता दें कि इस चार दिवसीय एमजीआईएससी का आयोजन 29 सितंबर से 2 अक्टूबर 2019 के बीच दिल्ली में होगा। इसका आयोजन स्वच्छ भारत मिशन द्वारा किया जा रहा है। एसबीएम दुनिया का सबसे बड़ा स्वच्छता कार्यक्रम है। इस सम्मेलन के बारे में अधिक जानकारी देते हुए पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय के सचिव परमेश्वरन अय्यर ने कहा, “भारत ने वैश्विक स्वच्छता का लक्ष्य हासिल करने के लिए बड़ा कदम उठाया है। स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को की गई थी। इसका लक्ष्य भारत को 2 अक्टूबर 2019 तक साफ-सुथरा और खुले में शौच से मुक्त बनाना है। ऐसा करते हुए देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी 150 वीं जयंती पर श्रद्धांजलि देना चाहता है।”

cleaning

भारत में यूनिसेफ की प्रतिनिधि डॉक्टर यासमीन अली हक ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “साफ पेयजल, असरकारी स्वच्छता और साफ-सुथरा माहौल हर बच्चे और हर समुदाय के लिए जरूरी हैं। साफ-सुथरे देश में ही उन्नत और मजबूत समाज बनता है। एसबीएम एक बिल्कुल अलग कार्यक्रम है। यह विश्व का सबसे बड़ा सफाई अभियान है और इसमें करोड़ों लोगों की भूमिका है। स्वच्छ भारत ने दुनिया भर का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

govt programe

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन के माध्यम से हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि हम हर लड़के और लड़की को साफ सुथरा माहौल और साफ पेयजल कैसे प्रदान कर सकते हैं।” तो वहीं ये भी बता दें कि मोदी सरकार का लक्ष्य 2019 तक देश को खुले में शौच से मुक्त करना है। जिसमें काफी हद तक सरकार को सफलता भी मिली है।

इस कार्यक्रम में ब्राजील, इंडोनेशिया, नाइजीरिया और जापान समेत उच्च, मध्यम और निम्न आय वाले देशों के 50 से अधिक मंत्री और प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे।