अयोध्या से लेकर आधार: रिटायरमेंट से पहले 6 दिन में इन मामलों की सुनवाई करेंगे सीजेआई

Avatar Written by: September 24, 2018 4:01 pm

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा के रिटायरमेंट में एक सप्ताह से भी कम ही वक्त बचा है। साथ ही उनके नाम एक ये भी रिकॉर्ड दर्ज हो गया है कि बीते दो दशकों में मिश्रा के अलावा ऐसा कोई दूसरा चीफ जस्टिस नहीं रहा है, जिसने इतनी अधिक संवैधानिक पीठों का नेतृत्व किया हो। दीपक मिश्रा ऐसी कई बेंचों के मुखिया रहें हैं, जिनके पास ऐसे मामले आए हैं, जो देश की राजनीतिक, धार्मिक और आर्थिक परिस्थिति के लिए महत्वपूर्ण रहे हैं।बता दें कि दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली 5 सदस्यीय संवैधानिक बेंच ने ही सेक्शन 377 को हटाने का फैसला दिया था, जिसके तहत समलैंगिक संबंध बनाना अपराध माना जाता था। भले ही सीजेआई के रिटायरमेंट में सिर्फ 9 दिन ही बचे हों, पर 6 दिन ही वर्किंग हैं। सीजेआई के नेतृत्व वाली अलग-अलग संवैधानिक बेंचों की ओर से इन दिनों में ही 8 अहम मामलों की सुनवाई की जानी है।deepak mishraआधार कार्ड से लेकर अयोध्या मामले तक 8 गंभीर मामलों की सुनवाई करने वाली बेंचों में सीजेआई समेत सुप्रीम कोर्ट के 10 जज शामिल हैं। इनमें दीपक मिश्रा, जस्टिस कुरियन जोसेफ, एके सीकरी, आर.एफ. नरीमन, ए.एम. खानविलकर, डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण, संजय किशन कौल, एस. अब्दुल नजीर और इंदु मल्होत्रा शामिल हैं।mobile link aadhar cardआधार मामले पर कई पक्षों ने याचिका दायर की है। इनमें हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज के. पुत्तास्वामी भी शामिल हैं। याचिकाओं में कहा गया है कि आधार कार्ड से प्रिवेसी भंग होती है। साथ ही ये भी बता दें कि अब तक देश के 118 करोड़ लोगों तक आधार पहुंच चुका है और मोदी सरकार ने तमाम योजनाओं के लिए इसे अनिवार्य दस्तावेज के तौर पर मंजूरी दे दी है।

फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने बैंक अकाउंट खोलने और मोबाइल नंबर लेने के लिए आधार की अनिवार्यता पर रोक लगा दी है। आधार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला यह तय करेगा कि सामाजिक और आर्थिक कल्याण की योजनाओं का संचालन कैसे होता है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost