कुछ इस अंदाज में गगन शक्ति प्रदर्शन देखने पहुंची रक्षामंत्री सीतारमण

Avatar Written by: April 20, 2018 8:30 am

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना ने युद्ध की तैयारियों को परखने के लिए चीन और पाकिस्तान की सीमा पर अपना सबसे बड़ा अभ्यास किया। इस दौरान वायुसेना के जवानों ने अपने पराक्रम और युद्ध कौशल का प्रदर्शन किया।

gagan shakti ‘गगन शक्ति 2018’ नाम से सैन्य अभ्यास ने भारतीय वायुसेना की बढ़ती ताकत का शक्ति प्रदर्शन किया। युद्धाभ्यास के तहत सुखोई 30 एमकेआई फाइटर जेट को चीन की सीमा से सटे अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट पर उतारा।

gagan shakti 2018

गगनशक्ति अभ्यास का पहला चरण 10 अप्रैल को शुरू हुआ था और अभी इसका दूसरा चरण जारी है जो 23 अप्रैल तक चलेगा।

gagan shakti 2018, IAF

गगन शक्ति प्रदर्शन देखने के लिए पासीघाट एएलजी पर रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण और एयरफोर्स चीफ बीएस धनोवा भी मौजूद रहे।

रक्षामंत्री सीतारमण ने असम के डिब्रूगढ़ में चाबुआ वायुसेना बेस स्टेशन का भी दौरा किया और गगन शक्ति अभ्यास 2018 का जायजा लिया। यह अभ्यास अपने दूसरे चरण में है।

Nirmala Sitharaman

रक्षा मंत्री ने सीतारमण ने ट्वीट किया, ‘गगन शक्ति 2018 का पैमाना और इसकी संभावनाएं विशाल हैं और ऐसा इससे पहले नहीं हुआ। यहां सिर्फ झलकियां हैं। भारतीय वायुसेना, वायुसेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ और वायुसेना के सभी योद्धाओं को बधाई।’

Nirmala Sitharaman

भारतीय वायुसेना युद्ध की स्थिति से निपटने के लिए 1100 से ज्यादा लड़ाकू, परिवहन और रोटरी विंग (हेलिकॉप्टर) एयरक्राफ्ट को इस अभ्यास में शामिल किया।

Defence Minister Nirmala Sitharaman

युद्ध की स्थिती में तीनों सेनाएं मिलकर दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब दे सकें, इसके लिए इस बड़े अभ्यास में सेना और नौसेना को भी शामिल किया गया।