मुझे जवाहर लाल नेहरू के भाषण बहुत पसंद हैं: नितिन गड़करी

Avatar Written by: December 25, 2018 2:07 pm

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी पिछले कुछ दिनों से लगातार अपने बयानों को लेकर मीडिया में चर्चा का विषय बने हुए है। हालही में उन्होंने तीन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी को मिली हार पर जिम्मेदारी तय करने वाले बयान पर अपनी सफाई दी। वहीं अब उन्होंने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को लेकर दिया है। एक कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने जवाहर लाल नेहरू के भाषणों की तारीफ की और खुद को उनके भाषणों का प्रशंसक बताया।

nitin gadkari

एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ”सिस्टम को सुधारने को दूसरे की तरफ उंगली क्यों करते हो, अपनी तरफ क्यों नहीं करते हो। जवाहर लाल नेहरू कहते थे कि इंडिया इज़ नॉट ए नेशन, इट इज़ ए पॉपुलेशन। इस देश का हर व्यक्ति देश के लिए प्रश्न है, समस्या है। उनके भाषण मुझे बहुत पसंद हैं। तो मैं इतना तो जरूर कर सकता हूं कि मैं देश के सामने एक समस्या नहीं बनूंगा।”

nitin gadkari.jpg 2

नितिन गडकरी का यह बयान बीते 24 दिसंबर का है। नितिन गडकरी के इस बयान पर सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं और लोग कई कयास भी लगाते जा रहे हैं।

इससे पहले भी पिछले करीब तीन-चार दिनों में नितिन गडकरी के कई बयान चर्चा का विषय बन चुके हैं। जिसके कारण उन्हें सफाई भी पेश करनी पड़ी। सोमवार को ही नई दिल्ली के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि अगर मैं पार्टी का अध्यक्ष हूं और मेरे सांसद या विधायक अच्छा नहीं करते हैं तो जिम्मेदार कौन होगा? गौरतलब है कि नितिन गडकरी के इस बयान को मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की हार से जोड़ा जाने लगा।

Nitin Gadkari

हालांकि, गडकरी ने इसके बाद ट्वीट कर सफाई भी दी। उन्होंने कहा कि,”वे हमेशा के लिए साफ कर देना चाहते हैं कि मेरे और बीजेपी नेतृत्व के बीच में दरार पैदा करने की साजिश कभी कामयाब नहीं होगी। मैने अपनी पोजिशन विभिन्न फोरम पर स्पष्ट की है और आगे भी करता रहूंगा और हमारे विरोधियों के नापाक मंसूबों को उजागर करता रहूंगा।”

इस बयान से पहले भी नितिन गडकरी चुनाव की हार पर बयान दे चुके हैं। एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि जीत के कई पिता होते हैं, लेकिन हार हमेशा अनाथ ही होती है। हार की जिम्मेदारी कोई नहीं लेता है।