RTI के हवाले से पूछा गया पीएम मोदी के काफिले में लगी गाड़ियों का पूरा खर्च, जानिए क्या जवाब मिला

Avatar Written by: October 18, 2018 9:07 pm

नई दिल्ली। सूचना का अधिकार कानून (आरटीआई) के तहत प्रधानमंत्री के साथ सम्बद्ध वाहन की संख्या के संबंध में जानकारी मांगी गई थी। बता दें कि ये कानून कांग्रेस की सरकार में 2005 में लागू किया गया था। जिसके तहत कुछ मामलों को छोड़कर सभी सरकारी मामलों में जानकारी मांगी जा सकती है। इसी कानून के तहत एक एक्टिविस्ट ने पीएम के काफिले में चलने वाली गाड़ियों की संख्या की जानकारी मांगी थी।

बता दें कि ये आरटीआई लखनऊ की डॉ. नूतन ठाकुर ने पीएमओ में दायर कर सूचना मांगी थी। सूचना देने से प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने इंकार कर दिया है। नूतन ठाकुर ने अपनी सूचना में पीएम के काफिले में चलने वालों वाहनों के प्रकार, खरीदे जाने का साल, कीमत, प्रधानमंत्री के साथ सुरक्षा में लगे वाहनों की संख्या, और इन वाहनों पर साल 2017, 2016, 2015 तथा 2014 में खर्च हुए ईंधन की सूचना मांगी थी।

पीएमओ के जन सूचना अधिकारी प्रवीण कुमार ने यह कहते हुए सूचना देने से मना कर दिया कि यह मामला स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) से जुड़ा है जो आरटीआई एक्ट की धारा 24 में निषिद्ध है।हालांकि उपराष्ट्रपति सचिवालय द्वारा समान प्रकार की सूचना देते हुए बताया गया था कि उपराष्ट्रपति कार्यालय के पास कुल 9 वाहन हैं। उन्होंने इन वाहनों के मूल्य तथा पिछले 4 सालों में ईंधन के उपयोग की भी सूचना दी थी।