अखाड़ों के शाही स्नान के साथ हुआ कुंभ मेले का आगाज, करोड़ों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

Avatar Written by: January 15, 2019 8:30 am

नई दिल्ली। प्रयागराज कुंभ में मंगलवार को मकर संक्रांति पर पहला शाही स्नान शुरू हो चुका है। इस स्नान की शुरुआत सुबह 5 बजकर 15 मिनट से शाही स्नान से हुई। एक तरफ मकर संक्रांति के पर्व पर अखाड़े शाही स्नान कर रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ श्रद्धालु भी संगम की त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाने के लिए भारी संख्या में प्रयागराज पहुंच रहे हैं।

क़रीब 12 करोड़ लोगों के आने की संभावना

बता दें कि इस बार कुंभ मेले में क़रीब 12 करोड़ लोगों के आने की संभावना है जिसमें से 10 लाख तो विदेशी पर्यटक होंगे। खास बात यह कि इस बार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी इस मेले की काफी जोरशोर से ब्रांडिंग की है। जिसकी वजह से इस बार और भीड़ होने की संभावना है।

पहले ही दिन करीब डेढ़ करोड़ लोग

अनुमान के मुताबिक पहले ही दिन करीब डेढ़ करोड़ श्रद्धालुओं के डुबकी लगाने की संभावना है। बता दें कि कुंभ में 6 शाही स्नान हैं जो 49 दिनों तक चलेगा। इस दौरान करीब 12 करोड़ से ज्यादा लोग संगम में आस्था की डुबकी लगाते हुए पुण्य कमाएंगे।

कुंभ की परंपरा के मुताबिक

शुरुआत में अटल अखाड़े के महामंडलेश्वर, मंडलेश्वर, महंत व श्रीमहंत ने शाही स्नान किया। उसके बाद निरंजनी और आनन्द अखाड़ा शाही स्नान करेगा। तीसरे क्रम में जूना अखाड़े के साथ ही अग्नि और आवाहन अखाड़े के साधु-संत शाही स्नान करेंगे। इसके बाद तीनों वैष्णव अणी अखाड़े दिगम्बर, निर्मोही और निर्वाणी अखाड़ा स्नान करेगा। इसके बाद दोनों बैरागी अखाड़े नया उदासीन और बड़ा उदासीन अखाड़े स्नान करेंगे। सबसे अंत में निर्मल अखाड़े के संत स्नान करोंगे।

मान्यता

कहा जाता है कि जिस जगह पर मेला लगता है उस जगह पर ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना करने से पहले इसी जगह पर यज्ञ किया था। कुंभ मेला स्थान पृथ्वी का केंद्र भी माना जाता है और यहीं ब्रह्माण्ड का उद्गम हुआ था।