कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की एक और घटिया हरकत कैमरे में कैद

Avatar Written by: October 18, 2018 3:11 pm

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार राज्य के दौरे पर हैं। इस चुनावी दौरे के दौरान वे मंदिर भी जा रहे हैं और गुरुद्वारा भी। मंगलवार को राहुल गांधी ग्वालियर-चंबल के दौरे पर थे, लेकिन यहां एक ऐसी घटना हुई, जिससे अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई। जिसे जान आप भी सोचने लग जाएंगे।बता दें कि मंगलवार की सुबह राहुल गांधी ग्वालियर के दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारा में मत्था टेकने पहुंचे। यहां उन्होंने देश, प्रदेश की खुशहाली के लिए मन्नत मांगी। इसके बाद दान पेटी के पास पहुंचे और जेब से पांच सौ रुपये का नोट निकाल उसमें डालने लगे, लेकिन तभी साथ खड़े ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आचार संहिता का हवाला देते हुए ऐसा करने से उन्हें रोक दिया। मजबूरन राहुल गांधी को पांच सौ का नोट वापस जेब में रखना पड़ा। यह घटना चर्चा का विषय बन गया है। बता दें कि राज्य में 28 नवंबर को चुनाव होने हैं।बता दें कि इससे पहले राहुल गांधी ने मां पीताम्बरा पीठ मंदिर में पूजा अर्चना की थी। राहुल यहां मंदिर परिसर में लगभग आधा घंटे तक रुके और मां पीताम्बरा की पूजा अर्चना की। उनके साथ प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ और वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी थे। इसके बाद उन्होंने राज्य के कई हिस्सों में जनसभा को संबोधित किया। अपने संबोधन में शिवराज सरकार पर जमकर प्रहार किया।राहुल गांधी ने कहा कि, “मध्यप्रदेश के अफसर, ब्यूरोक्रेट्स आपसे छोटा सा छोटा काम करवाने के लिए पैसे लेते हैं। ऊपर से नीचे तक चेन बनी हुई है। चेन के ऊपर शिवराज सिंह चौहान जी एवं उनका परिवार है। ऊपर से नीचे तक मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार है। कुछ भी करवाना है, छोटा सा छोटा काम, इंदिरा आवास, कोई भी सरकारी काज बनवाना हो किसी आफिस में, बीपीएल कार्ड, कुछ भी करवाना हो।राहुल गांधी ने कहा कि पहले अपने जेब से पैसा निकालकर अधिकारी एवं ब्यूरोक्रेट्स को दो। फिर मध्यप्रदेश में जाकर कुछ होगा। मध्यप्रदेश में जितनी भी आपको पढ़ाई करनी है कर लो, जितने भी घंटे आप पढ़ना चाहते हो बिना। मगर आपके जेब में पैसा नहीं, अगर आप रिश्वत देकर परीक्षा नहीं लिखवा सकते हो तो आप मध्यप्रदेश में आगे नहीं बढ़ सकते हो।

Support Newsroompost
Support Newsroompost