सरकार ने डिसक्वालिफ़ाइड होने वाले एथलिट के साथ किया कुछ ऐसा कि सहवाग से रहा नहीं गया और फिर…

Written by Newsroom Staff September 7, 2018 3:19 pm

नई दिल्ली। एशिया खेलों में डिसक्‍वॉलिफाई होने वाले एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन को मोदी सरकार ने इनाम दिया है।खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन को गुरुवार को 10 लाख रुपए की इनामी राशि दी। राठौड़ ने इसके साथ ही लक्ष्मणन के प्रदर्शन को मान्यता दी जो एशियन गेम्स की 10 हजार मीटर दौड़ में तीसरे स्थान पर रहे थे, लेकिन बाद में उन्हें डिस्क्वालीफाई कर दिया गया। Rajyavardhan Rathore and Govindan Lakshamanan

एक अन्य खिलाड़ी के जूते की स्पाइक लगने के कारण लक्ष्मणन कुछ क्षण के लिए ट्रैक से बाहर चले गए थे। भारत ने दो स्तर पर डिक्वालीफिकेशन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया, लेकिन उसकी अपील को ठुकरा दिया गया। खेल मंत्रालय ने बयान में कहा कि इस खिलाड़ी को पदक हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत जारी रखने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से युवा मामलों और खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने उसे 10 लाख रुपए की पुरस्कार राशि दी।

Govindan Lakshamanan

वहीं टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने गोविंदन लक्ष्मणन को पुरस्कृत करने पर खुशी जताई है। सहवाग ने अपने ट्विटर पर लिखा, ”एशियाई खेलों में भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल पाने वाले गोविंदन लक्ष्मणन के लिए मैं बेहद खुश हूं। लक्ष्मणन का पैर कुछ क्षण के लिए ट्रैक से बाहर चला गया था इस वजह से वह डिस्क्वॉलिफाइ करार दे दिए गए थे। इसके बावजूद खेल मंत्री ने लक्ष्मणन को 10 लाख रुपये का चेक दिया, खेल मंत्री का यह फैसला दूसरे खिलाड़ियों के एक सुनहरे कल की ओर ईशारा कर रहा है।”

10 हजार मीटर दौड़ में भारत के गोविंदन लक्ष्मणन पर सबकी निगाहें थी। लक्ष्मणन ने 29.44.91 का समय लेकर ब्रॉन्ज जीता और सबको जश्न मनाने का मौका भी दे दिया, लेकिन ये जश्न कुछ ही पल के लिए था।Govindan Lakshamanan

लक्ष्मणन को डिस्क्वालिफाई कर दिया गया, दरअसल रेस के दौरान उनका पैर लेन से बाहर चला गया था और इसके साथ ही भारत से मेडल भी छिन गया।