भाजपा सांसद ने अपनी ही पार्टी पर साधा निशाना कहा, “दलितों के घर खाना खाने से नहीं मिलती जीत”

Written by: December 25, 2018 3:31 pm

नई दिल्ली। आने वाले लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा को तीन राज्यों में मिली हार से पार्टी के अंदर मंथन जारी है लेकिन उत्तर पश्चिम दिल्ली से बीजेपी सांसद उदित राज ने एक निजी चैनल से बात करते हुए अपनी ही पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘तीन विधानसभाओं में मिली हार का कारण दलित और आदिवासियों की नाराजगी है।’

उदित राज ने अपनी ही पार्टी के आलाकमान को खरी-खरी सुनाते हुए कहा कि, ”दलितों और आदिवासियों के यहां जाकर खाना खाने, उनकी मूर्तियां लगाने से अब वोट बैंक नहीं तैयार होगा। अब वो समझ गये हैं, वो समझते हैं कि अगर उनके यहां नेता खाना खाने आते हैं तो उन्हें दलित होने या फिर उन्हें नीच समझा जाता है। इसलिए नेता घर पर खाना खाने आते हैं।”

राहुल गांधी को लेकर बीजेपी सांसद ने कहा कि, “इस बार राहुल गांधी किसी के यहां खाना खाने नहीं गये थे देखिये उनकी पार्टी जीत गई।” बता दें कि उदित राज एससी-एसटी एक्ट के पक्षधर माने जाते हैं और समय-समय पर इसको लेकर अपनी ही पार्टी के खिलाफ बयान भी देते रहें हैं।

उदित राज कहा, ”दलितों और आदिवासियों के विकास कार्य के लिये जो लोग लगाये गये हैं वो ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। उन जगहों पर ऐसे लोगों को बैठाना चाहिए जो इनकी दिक्कतों को समझें। इस मुद्दे पर मैं पहले से अपनी पार्टी से कहता आ रहा हूं।” दलित वोटों की पैरवी करते हुए सांसद ने आदिवासी और दलित फैक्टर को 2019 के लोकसभा चुनाव में बहुत बड़ा मुद्दा माना और कहा कि इस पर पार्टी को काम करने की जरूरत है।