खुलासा: पलवल की मस्जिद में 5 साल से पैसा भेज रहा था हाफिज सईद

Written by Newsroom Staff October 19, 2018 1:16 pm

नई दिल्ली। पलवल के उटावड़ गांव में बन रही मस्जिद में टेरर फंडिग मामले को लेकर एनआईए के खुलासे से सनसनी मची हुई है। एनआई के मुताबिक, देश के अलग-अलग हिस्सों में मस्जिदों, मदरसों और मजलूमों को सहारा देकर उन्हें आतंक के लिए उकसाने की कोशिश कर रहा है। एनआईए के मुताबिक, पलवल में बनी मस्जिद को हाफिज सईद इंसानियत और लश्कर-ए-तैयबा 5 साल से फंडिंग कर रहा है। एनआईए के मुताबिक हाफिज़ सईद भारत के अलग-अलग हिस्सों में मस्जिदों, मदरसों और मजलूमों को सहारा देकर उन्हें आतंक के लिए उकसाने की कोशिश कर रहा है।

एनआईए इसकी गहन जांच कर रही है.एनआईए के रडार पर 3-4 नए लोग हैं. जिनके यहां टेरर फंडिंग का पैसा पहुंचा है। एनआईए सूत्रों के मुताबिक टेरर फंडिंग का पैसा राजस्थान, गुजरात, दिल्ली, मुम्बई और कश्मीर में पहुंचा है. जिसकी जांच बड़े स्तर पर एनआईए कर रही है।

आपको बता दें कि मस्जिद के इमाम मोहम्मद सलमान को दुबई निवासी पाकिस्तानी नागरिक कामरान के नाम से 80 लाख का चेक मिला था। ऐसा माना जा रहा है कि कामरान आतंकी संगठन के लिए काम करता है और भारत में आतंकी गतिविधियों के लिए पैसा उपलब्ध कराता है. एनआईए एक केस दर्ज कर इस मामले की जांच की रही है।

एनआईए के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार भारत में आतंकी फंडिंग के लिए फलाह-ए-इंसानियत के नेटवर्क के बारे में सुरक्षा एजेंसियों को जानकारी कुछ महीने पहले मिली थी. इसके आधार पर इस साल जुलाई में एनआईए ने एफआइआर भी दर्ज की थी. जांच में पता चला कि निजामुद्दीन में रहने वाला मोहम्मद सलमान यूएई में रहने वाले फलाह-ए-इंसानियत के पाकिस्तानी कारिंदे के संपर्क में था।