दिल्ली के पॉश एरिया (साउथ दिल्ली) का सियासी महत्व, और 2019 के मुद्दे

दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र भारतीय राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली का महत्वपूर्ण संसदीय क्षेत्र है। 1952 में देश के लिए हुए लोकसभा चुनावों के दौरान यह सीट अस्तित्व‍ में नहीं थी। 1966 में इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र को गठित किया गया। यह दिल्ली का दक्षिण जिला है। इसे कालकाजी, डिफेंस कॉलोनी, हौजखास उपमंडल में बांटा गया है।

Written by संतोष सिंह पाल April 30, 2019 7:46 pm

नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र भारतीय राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली का महत्वपूर्ण संसदीय क्षेत्र है। 1952 में देश के लिए हुए लोकसभा चुनावों के दौरान यह सीट अस्तित्व‍ में नहीं थी। 1966 में इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र को गठित किया गया। यह दिल्ली का दक्षिण जिला है। इसे कालकाजी, डिफेंस कॉलोनी, हौजखास उपमंडल में बांटा गया है। कालकाजी मंदिर इस क्षेत्र का सबसे महत्वपूर्ण मंदिर है। यहां कमल मंदिर और इस्कॉन मंदिर भी प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं।

राजनीतिक इतिहास
दक्षिण दिल्ली लोकसभा सीट से 1967 में भारतीय जनसंघ के बलराज मधोक, 1971 में कांग्रेस के शशि भूषण, 1977 में जनता पार्टी के विजय कुमार मल्होत्रा, 1980 में कांग्रेस के चरणजीत सिंह, 1984 में कांग्रेस के ललित माकन, 1985 के उपचुनाव में कांग्रेस के अर्जुन सिंह, 1989 और 1991 में BJP के पूर्व मुख्यमंत्री मदन लाल खुराना, 1996 और 1998 में BJP की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज, 1999 और 2004 में BJP के विजय कुमार मल्होत्रा तथा 2009 में कांग्रेस के रमेश कुमार ने जीत हासिल की थी।

2014 का जनादेश
2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के रमेश बिधूड़ी ने आम आदमी पार्टी के कर्नल देविंदर सेहरावत को शिकस्त दी। इस चुनाव में रमेश बिधूड़ी को 497980 वोट मिले। कर्नल देविंदर सेहरावत को 390980 वोट मिले। इस तरह कर्नल देविंदर सेहरावत 107000 वोटों से ये चुनाव हार गए। वहीं कांग्रेस के रमेश कुमार 125213 वोटों के साथ तीसरे पायदान पर रहे।

दक्षिणी दिल्ली

विधानसभा क्षेत्रों की संख्या- 10

विधानसभा क्षेत्र

बिजवासन, पालम, महरौली, छतरपुर, देवली, अंबेडकर नगर, संगम विहार, कालकाजी, तुगलकाबाद, बदरपुर

प्रमुख इलाके

मुनिरका, बेगमपुर, जिया सराय, कटवारिया सराय, बदरपुर, मंडी गांव, हौज खास विलेज, लाडो सराय, बेर सराय, सीआर पार्क, तुगलकाबाद

प्रमुख बाजार

लाजपत नगर, सरोजनी नगर, हौजखास

प्रमुख मुद्दे
संगम विहार, देवली, मैदानगढ़ी, छतरपुर, आया नगर और गिटौरनी, ओखला, तिगरी, खानपुर, महरौली आदि में पेयजल की बड़ी समस्या है।

अनधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत करने के लिए कोई स्पष्ट नीति नहीं है। मास्टर प्लान 2021 के मुताबिक ओजोन क्षेत्र यानी नदी से 300 मीटर की दूरी तक कोई निर्माण नहीं हो सकता है। इस नियम का फायदा उठाकर संबंधित सरकारी एजेंसी नदी सीमा से दो-तीन किलोमीटर पर भी निर्माण नहीं होने देतीं।

जैतपुर, मीठापुर, बदरपुर, ओमनगर, सौरभ विहार, समेत 40 से अधिक अवैध कॉलोनी के लाखों लोग परेशान हैं। ग्रामीण व अवैध कॉलोनियों में गंदगी से भी बुरा हाल है।

बदहाल कानून व्यवस्था और महिला सुरक्षा।

कुल मतदाता-14,58,607

पुरुष मतदाता-8,38,839

महिला मतदाता-5,73,035

नए मतदाता-46,630

थर्ड जेंडर-103

प्रमुख दलों के उम्मीदवार
भाजपा-रमेश बिधूड़ी, कांग्रेस-विजेंदर सिंह (बॉक्सर ), आम आदमी पार्टी -राघव चड्ढा

भाजपा प्रत्याशी रमेश बिधूड़ी का कहना है कि दक्षिणी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में 90 फीसद ग्रामीण आबादी है। यहां देश के विभिन्न प्रदेशों के लोग रहते हैं। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की समस्या मेरे जैसा स्थानीय ग्रामीण ही समझ सकता है व समाधान करा सकता है। बीते पांच साल में क्षेत्र में जबरदस्त विकास कार्य कराए गए हैं। केंद्र सरकार ने हर तबके के लिए काम किया।

कांग्रेस प्रत्याशी विजेंदर सिंह का कहना है कि रोजगार सबसे बड़ी समस्या है, युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए विशेष रूप से काम किया जाएगा। इसके अलावा खेल प्रेमी बच्चों व युवाओं को बेहतर प्लेटफार्म मुहैया कराया जाएगा। महिला सुरक्षा के मद्देनजर महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे। इसके लिए बॉक्सिंग अकादमी खोलकर महिलाओं, बच्चों व युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा।