आतंकी की मौत पर महबूबा मुफ्ती का मातम क्यों?

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। कुपवाड़ा जिले में आज सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में एक पीएचडी छात्र सहित दो कश्मीरी आतंकवादी मारे गए। मुठभेड़ शटगुंड गांव में हुई। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का पीएचडी छात्र व हिजबुल कमांडर मनान बशीर वानी जनवरी में आतंकवादी संगठन में शामिल हुआ था। वह एक अन्य कश्मीरी आतंकवादी के साथ मुठभेड़ में मारा गया।

Indian Army kashmir

वहीं आतंकी की मौत पर जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर दुख जताया है। मुफ्ती ने ट्वीट पर लिखा, ”आज एक पीएचडी स्कॉलर ने जिंदगी की जगह मौत को चुना और एक मुठभेड़ में मारा गया। उसकी मौत पूरी तरह से हमारा नुकसान है क्योंकि हम हर दिन जवान पढ़े-लिखे लड़कों को खो रहे हैं।”

महबूबा ने अपने अगले ट्वीट में लिखा है, “यह उचित समय है कि देश की सभी राजनीतिक पार्टियां इस समस्या की गंभीरता को समझें और इस रक्तपात को खत्म करने के लिए पाकिस्तान सहित सभी हितधारकों के साथ बातचीत के माध्यम से एक समाधान निकालने का प्रयास करें।”

उधर अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी मन्नान वानी कि मौत का दुख जताते हुए कल बंद की घोषणा की है। जानकारी के अनुसार, आज सुबह से कुपवाड़ा सेक्टर के हंदवाड़ा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ चल रही थी। खबर है कि सुरक्षाबलों ने वहां मौजूद दोनों आतंकियों को ढेर कर दिया है।

terrorist

आपको यह भी बता दें कि मन्नान वानी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी  का पूर्व छात्र था। बताया जा रहा है कि मन्नान इसी साल एएमयू से लापता हुआ था। हालांकि बाद में खबर आई थी कि वह आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया था। सोशल मीडिया पर घातक हथियारों के साथ उसकी तस्वीर वायरल होने के बाद एएमयू ने मन्नान वानी को निष्कासित कर दिया था।

Facebook Comments