भारत के दबाव के आगे झुका पाकिस्तान, आतंकी हाफिज को लेकर की ये बड़ी घोषणा

नई दिल्ली। भारत के लगातार दबाव बनाने के बाद आखिरकार पाकिस्तान आतंकवादियों के खिलाफ कड़े एक्शन लेने को मजबूर हो गया है। पाकिस्तान ने एक फैसला किया है जिससे मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज़ सईद की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने एक ऐसे अध्यादेश पर हस्ताक्षर किए हैं जिसका उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा प्रतिबंधित व्यक्तियों और लश्कर-ए-तैयबा, अल-कायदा तथा तालिबान जैसे संगठनों पर लगाम लगाना है।

राष्‍ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद जमात उद दावा घोषित तौर पर आतंकी संगठन की सूची में शामिल हो गया। हालांकि अगर यह अध्यादेश कानून का रूप नहीं लेता है तो समय सीमा खत्म होने के बाद जमात-उद-दावा पर से प्रतिबंध अपने आप हट जाएगा। इससे पहले पाकिस्तान ने साल 2005 में यूएनएससी प्रस्ताव 1267 के तहत लश्कर-ए-तैयबा को एक प्रतिबंधित संगठन घोषित किया था। पाकिस्तान सरकार ने यह कदम 18 से 23 फरवरी तक पेरिस में होने वाली फाइनेंसियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक से ठीक पहले लिया। ऐसा माना जा रहा था कि अमेरिका के दबाव में आकर एफएटीएफ पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में ना डाल दे। इस बैठक में मनी लॉन्डरिंग जैसे मामलों को लेकर अलग-अलग देशों की निगरानी होती है।भारत लगातार कहता आया है कि जमात-उद-दावा प्रमुख सईद 2008 नंवबर में हुए मुंबई हमले का मास्टर माइंड है। अमेरिका ने भारत का समर्थन करते हुए सईद के ऊपर एक करोड़ डॉलर का इनाम रखा है।

Facebook Comments