परेश रावल ने राहुल गांधी के इस वीडियो पर देखिये क्या कह डाला, खुद राहुल गांधी की हो जाएगी हालत खराब

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सरकार के खिलाफ प्रचार लगातार जारी रहता है। लेकिन अपने मंच से वह हर बार कुछ ना कुछ ऐसा बोल बैठते हैं कि वह उनके लिए गले की फांस बन जाता है साथ ही सोशल मीडिया पर भी जमकर लोग राहुल गांधी का मजाक बनाने से भी नहीं चुकते हैं। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के समय राहुल गांधी का वह बयान तो याद हीं होगा जिसमें वहां के महान लोगों को याद करते हुए राहुल गांधी विश्वेश्वरय्या का नाम नहीं ले पा रहे थे।

कुछ ऐसा हीं राहुल गांधी ने आंध्र प्रदेश में भी किया और लोगों ने राहुल गांधी को जमकर सोशल मीडिया पर ट्रोल करना शुरू कर दिया। राहुल अपने दौरे के क्रम में आंध्र प्रदेश पहुंचे और वहां से वह केंद्र सरकार और नरेंद्र मोदी पर जमकर बरसे लेकिन इस बार भी राहुल की जुबान उनको धोखा दे गई। राहुल का इस बार भी इस वजह से सोशल मीडिया पर मजाक बनाया जा रहा है।Rahul Gandhi Bhopal

इससे ठीक पहले एक चुनावी सभा में कर्नाटक के दिग्गजों के नाम लेते हुए ये चूक हुई। इस रैली में उन्होंने कहा था, ”बड़े-बड़े नाम हैं, टीपू सुल्तान जी, कृष्ण राजा वडियार, विश्वस्वे…विश्वा…रैया…विश्वरैया…(मुस्कुराहट)…कुवेंपू जी…” और विश्वेश्वरय्या के नाम के संबोधन में लड़खड़ाना भारी पड़ा।rahul-gandhi-and-pm-modi

साथ ही राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ये चुनौती भी दी थी कि अगर वो संसद में 15 मिनट बोलेंगे तो मोदी टिक नहीं पाएंगे। इस पर मोदी ने कहा था कि, ”कांग्रेस अध्यक्ष जी ने हाल ही में मुझे चुनौती दी। उन्होंने कहा कि अगर वो संसद में 15 मिनट बोलेंगे तो मोदी जी बैठ भी नहीं पाएंगे। ये उन्होंने मुझे चुनौती दी है।”Narendra modi and Rahul Gandhi मोदी ने कहा था कि लेकिन इस चुनाव अभियान के दौरान कर्नाटक में, आपको जो भाषा पसंद हो, उसमें हिंदी, अंग्रेज़ी या आपकी माता जी की मातृभाषा में आप 15 मिनट, हाथ में कागज़ लिए बिना कर्नाटक की आपकी सरकार की अचीवमेंट, सिद्धियां, 15 मिनट कर्नाटक की जनता के सामने बोल दीजिए। और एक छोटा काम साथ-साथ कर देना। उस 15 मिनट के भाषण के दरम्यान, कम से कम पांच बार श्रीमान विश्वेश्वरय्या के नाम का उल्लेख कर देना। अगर इतना कर लिया तो कर्नाटक की जनता इस बात का फ़ैसला कर लेगी कि आपकी बातों में कितना दम है।Narendra modi and Rahul Gandhi

ठीक इसी तरह का एक और वाकया उनके साथ आंध्र प्रदेश में हुआ जहां वह वहां के प्रथम दलित मुख्यमंत्री को अपनी श्रद्धांजलि देने के लिए मंच से उदबोधन दे रहे थे और फिर एक बार वह हकलाने लगे। राहुल गांधी ने मंच से कहा कि मैं इस राज्य के पहले दलित मुख्यमंत्री दामोदरम संजिवैय्या को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं। लेकिन वह दामोदरम संजिवैय्या का नाम लेने में ही लड़खड़ाने लगे।


इसी को लेकर भाजपा नेता और प्रखर अभिनेता परेश रावल ने लिखा कि इस भाषण को भूल जाइए लेकिन शांति के बीच जो व्याकरण की अशुद्धि है उसपर ध्यान दीजिए।

इसके बाद लोगों ने जमकर राहुल गांधी का मजाक बनाना शुरू कर दिया।

Facebook Comments