रथयात्रा: बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमला

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमला हुआ है। वो बीजेपी की रथयात्रा के तहत खलीसामारी में जनसभा में हिस्सा लेने जा रहे थे। पार्टी अध्यक्ष पर हुए हमले के बाद कार्यकर्ता कोलकाता की सड़कों पर उतर आए हैं। इस बीच एक बड़ी खबर आ रही है कि कलकत्ता हाईकोर्ट ने बीजेपी की रथयात्रा पर रोक लगा दी है। अब मामले की अगली सुनवाई 9 जनवरी को होगी।टीएमसी कार्यकर्ताओं के मुताबिक, दिलीप घोष पर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ताओं ने हमला बोला और उन्हें काले झंडे दिखाए। इस दौरान ‘वापस जाओ’ के नारे भी लगाए गए। कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस हमले में घोष को चोट आई है। बाद में पुलिस ने एस्कॉर्ट करते हुए उन्हें जनसभा तक पहुंचाया।

घोष पर हमले के विरोध में पार्टी कार्यकर्ता कोलकाता की सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। सेंट्रल एवेन्यू पर कार्यकर्ताओं ने रास्तों को बंद कर दिया है। इससे पहले कूचबिहार को माथाभांगा और दिनहाटा को जोड़ने वाले हाइवे पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की तस्वीर वाला एक फ्लैक्स बोर्ड भी फटा हुआ पाया गया था। इसका भी आरोप बीजेपी ने टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगाया था।

पश्चिम बंगाल में तीन रथ रवाना करेगी बीजेपी

बता दें, बीजेपी की योजना के मुताबिक, अमित शाह राज्य में तीन अलग अलग रथों को रवाना करेंगे जो राज्य के सभी 42 लोकसभा क्षेत्रों को कवर करेंगे। शाह पहले दौर की शुरुआत उत्तर बंगाल के कूचबिहार से 7 दिसंबर को करेंगे। दूसरा दौर 9 दिसंबर को दक्षिण 24 परगना के सागर से शुरू होगा। इसी तरह तीसरे दौर की शुरुआत 14 दिसंबर को बीरभूम के तारापीठ से होगी।

पीएम मोदी कर सकते हैं समापन

एक महीने तक चलने वाली इस यात्रा में बीजेपी के कई स्टार वक्ता हिस्सा लेंगे। इस दौरान असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देव भी शामिल हो सकते हैं। तीनों रथ यात्राओं का समापन कोलकाता में जनवरी में होगा।

Facebook Comments